मसूद अजहर संबंधी नाकामी भी नेहरू के मत्थे!

Posted on 15 Mar 2019 -by Watchdog

अरुण माहेश्वरी

जब अरुण जेटली के स्तर का वकील किसी को पराजित करने के लिये एड़ी चोटी का पसीना एक कर रहा हो, तब उसकी अपराजेय ईश्वरीय शक्ति की स्थापना में कौन बाधा डाल सकता है? 

नरेन्द्र मोदी की झूला झूलने और झूठों गले से चिपकने की बंदरों की तरह कूटनीतिक हरकतों का ही परिणाम है कि भारत मसूद अजहर के स्तर के नग्न आतंकवादी को आतंकवादी मानने के लिये चीन को राजी नहीं करा पाया और अरुण जेटली कहते हैं, यह सब नेहरू जी के मूल पाप की वजह से हुआ है। 

वे एक झूठा किस्सा गढ़ते हैं कि नेहरू जी ने संयुक्त राष्ट्र की सुरक्षा परिषद में भारत की सदस्यता को स्वीकारने के बजाय चीन को वह जगह दे दी, जिसके कारण चीन आज मोदी जी के साथ यह तमाशा कर पा रहा है। 

दुनिया जानती है कि 1942 में संयुक्त राष्ट्र संघ बना और 1945 में उसकी सुरक्षा परिषद का गठन हुआ। उस समय तक भारत पर ब्रिटिश राज था । इसीलिये जिन पंद्रह देशों को संयुक्त राष्ट्र की सुरक्षा परिषद का सदस्य बनाया गया, उनमें भारत नहीं था। भारत का प्रतिनिधित्व ब्रिटेन कर रहा था । उन पंद्रह सदस्यों में ही पांच देशों, चीन, फ्रांस, रूस, ब्रिटेन और अमेरिका को वीटो पावर दिया गया । 

इसीलिये, सन् 1942 और 1945 के गुलाम भारत में नेहरू जी के सामने भारत के प्रतिनिधित्व का सवाल ही नहीं आ सकता था। सन् 1950 में चीन में क्रांति के बाद जब कम्युनिस्ट पार्टी की सरकार बनी, तब सुरक्षा परिषद में चीन की नई सरकार के प्रतिनिधि को स्वाभाविक तौर पर शामिल किया गया । 

1950 में कुछ हलकों से इस प्रकार की झूठी बात उड़ाने की कोशिश की गई थी कि अब चीन में सत्ता बदलने के बाद चीन की नई सरकार की जगह भारत को शामिल करने का प्रस्ताव रखा जा सकता है । उसी समय नेहरू जी ने संसद में यह साफ बता दिया था कि भारत के पास इस प्रकार का कोई औपचारिक प्रस्ताव कभी नहीं आया है । इसके अलावा उन्होंने यह भी बताया था कि संयुक्त राष्ट्र की सुरक्षा परिषद की सदस्यता के अपने खास नियम हैं । उन्हें नजरंदाज करके भारत का उसमें अभी जाना मुमकिन नहीं है । इसीलिये चीन की नई सरकार के स्वाभाविक दावे के विरुद्ध अपना दावा पेश करने का भी कोई तुक नहीं है । 

लेकिन फिर भी सारे संघी यही रट रहे हैं कि नेहरू जी ने चीन को सुरक्षा परिषद में वीटो पावर दिला दिया ! अब जेटली ने तो नेहरू जी के लिये बाकायदा ईसाई धर्म की ‘ऑरिजिनल सिन’ वाली धार्मिक पदावली का भी प्रयोग कर लिया है । ईसाई धर्म के व्याख्याताओं का कहना है कि जैसे प्रलय ईश्वर की ही इच्छा का परिणाम होता है, वैसे ही आदम का मूल पाप भी उसी की इच्छा का ही प्रतिफल है जिसके कारण धरती पर ईश्वरीय नैतिकता के उदय की जमीन तैयार हुई है । 

अर्थात भारत में नेहरू भी ईश्वरीय इच्छा के ही प्रतीक, मूल पाप के कारक रहे हैं । उनके समय से आज तक जो कुछ हो रहा है, सब उनके किये का ही परिणाम है । 

आरएसएस की पाठशाला में आधुनिक भारत में नेहरू जी की व्याप्ति और लगातार बनी हुई सक्रिय उपस्थिति उन्हें किसी ईश्वरीय प्रतिमूर्ति से नीचे स्थान पर नहीं रखती है । इसी से किन्तु यह भी पता चलता है कि जब ईश्वर ने संघियों को जीवन के तमाम क्षेत्रों में इतनी तमाम बाधाओं से जकड़ दिया है, तब प्रकारांतर से ईश्वर उन्हें भारत में सत्ता का अधिकारी ही नहीं मानता है । सत्ता पर मोदी-शाह-जेटली तिकड़ी की उपस्थिति ईश्वरीय न्याय के अनुसार ही अनैतिक है ।

(अरुण माहेश्वरी वरिष्ठ लेखक और स्तंभकार हैं और आजकल कोलकाता में रहते हैं।)



Generic placeholder image


मोदी सरकार ने चुपके से बदली पर्यावरण नीति
12 Jun 2019 - Watchdog

पत्रकार का आरोप- रेलवे के पुलिसकर्मियों ने मेरे मुंह में पेशाब की
12 Jun 2019 - Watchdog

सख्त हुआ ये राज्य, रेप करने वालों को लगेंगे नपुंसक बनाने के इंजेक्शन
12 Jun 2019 - Watchdog

आंकड़ों की इस धोखेबाज़ी की बाकायदा जांच होनी चाहिए
11 Jun 2019 - Watchdog

उत्तराखंड के वित्त मंत्री प्रकाश पंत का निधन
06 Jun 2019 - Watchdog

कारगिल युद्ध में भाग लेने वाले ऑफिसर विदेशी घोषित, परिवार समेत नज़रबंदी शिविर भेजा गया
03 Jun 2019 - Watchdog

वाम नेतृत्व को अपना खोल पलटने की ज़रूरत है
03 Jun 2019 - Watchdog

नरेंद्र मोदी ने दूसरी बार प्रधानमंत्री पद की शपथ ली
31 May 2019 - Watchdog

मोदी मंत्रिमंडल: अमित शाह बने गृह मंत्री, राजनाथ रक्षा मंत्री और एस. जयशंकर विदेश मंत्री
31 May 2019 - Watchdog

30 मई को ईवीएम के खिलाफ राष्ट्रीय विरोध दिवस
29 May 2019 - Watchdog

भाजपा को 300 से ज़्यादा सीटें मिलने की संभावना, मोदी ने कहा- एक बार फिर भारत जीता
23 May 2019 - Watchdog

ये सर्वे खतरनाक और किसी बडी साजिश का हिस्सा लगते हैं
20 May 2019 - Watchdog

डर पैदा कर रहे हैं एक्गिट पोल के नतीजे
20 May 2019 - Watchdog

न्यूज़ चैनल भारत के लोकतंत्र को बर्बाद कर चुके हैं
19 May 2019 - Watchdog

प्रधानमंत्री की केदारनाथ यात्रा मतदान प्रभावित करने की साजिश : रवीश कुमार
19 May 2019 - Watchdog

अर्थव्यवस्था मंदी में धकेली जा चुकी है और मोदी नाकटबाजी में मग्न हैं
19 May 2019 - Watchdog

भक्ति के नाम पर अभिनय कर रहे हैं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी
18 May 2019 - Watchdog

चुनाव आयोग में बग़ावत, आयोग की बैठकों में शामिल होने से आयुक्त अशोक ल्वासा का इंकार
18 May 2019 - Watchdog

पहली प्रेस कॉन्फ्रेंस में भी बिना सवाल-जवाब के लौटे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी
17 May 2019 - Watchdog

प्रज्ञा ठाकुर ने नाथूराम गोडसे को बताया 'देशभक्त'
16 May 2019 - Watchdog

प्रज्ञा ठाकुर ने नाथूराम गोडसे को बताया 'देशभक्त'
16 May 2019 - Watchdog

छत्तीसगढ़ की जेलों में बंद चार हजार से ज्यादा आदिवासी जल्द ही होंगे रिहा
15 May 2019 - Watchdog

खराब गोला-बारूद से हो रहे हादसों पर सेना ने जताई चिंता
15 May 2019 - Watchdog

मोदी की रैली के पास पकौड़ा बेचने पर 12 स्टूडेंट हिरासत में लिए
15 May 2019 - Watchdog

भारत माता हो या पिता मगर उसकी डेढ़ करोड़ संतानें वेश्या क्यों हैं ?
14 May 2019 - Watchdog

सुपरफास्ट मोदी: 1988 में अपना पहला ईमेल भेज चुके थे बाल नरेंद्र, जबकि भारत में 1995 में शुरू हुई Email की सुविधा
13 May 2019 - Watchdog

आजाद भारत का पहला आतंकी नाथूराम गोडसे हिंदू था
13 May 2019 - Watchdog

सीजेआई यौन उत्पीड़न मामला: शिकायतकर्ता ने कहा- ‘हम सब खो चुके हैं, अब कुछ नहीं बचा’
13 May 2019 - Watchdog

मोदी सरकार में हुआ 4 लाख करोड़ रुपये का बड़ा घोटाला ?
11 May 2019 - Watchdog

क्या मोदी ने भारत की अर्थव्यवस्था चौपट कर दी है?
11 May 2019 - Watchdog



मसूद अजहर संबंधी नाकामी भी नेहरू के मत्थे!