मैंने निश्चय किया कि मैं भारत माता की जय नहीं बोलूँगा

Posted on 18 Nov 2017 -by Watchdog

हिमांशु कुमार--

मैं जानता हूँ आपको बहुत बुरा लगता है

जब कोई आपसे कहता है कि इस देश में रहने वाला

कोई भारत माता की जय नहीं बोलना चाहता

मानता हूँ कि आपका खून खौल जाता है

मैं भी पूरी जवानी भारत माता की जय के नारे लगाता रहा

आज भी लगा सकता हूँ उसमें कोई बुराई नहीं है

लेकिन अब नहीं लगाता

मैं अब जान बूझ कर भारत माता की जय बोलने से मना करता हूँ

क्यों करूँगा मैं ऐसा ?

यह मत कहना कि मैं कम्युनिस्ट हूँ

या मैं विदेशी पैसा खाता हूँ

या मैं नक्सलवादी हूँ

या मैं मुसलमानों के तलवे चाटता हूँ

मेरा जन्म एक सवर्ण

हिंदू परिवार में हुआ

मुझे भी बताया गया कि हिंदू धर्म दुनिया का सबसे महान धर्म है

मुझे भी बताया गया कि हमारी जाति बहुत ऊंची है

मुझे भी बताया गया कि देश की एक खास राजनैतिक पार्टी

बिलकुल सही है

मैं भी सैनिकों की बहादुरी वाली फ़िल्में देखता था

और तालियाँ बजाता था

मैं भी पाकिस्तान से नफ़रत करता था

लेकिन फिर मुझे आदिवासी इलाके में जाकर

रहने का मौका मिला

मैंने वहाँ जाकर अनुभव किया

कि मेरी धारणाएं

काफी अधूरी और गलत हैं

मैं अपने धर्म को सबसे अच्छा मानता हूँ

लेकिन इसी तरह सभी लोग अपने धर्म को अच्छा मानते हैं

तो फिर यह बात सही नहीं हो सकती कि मेरा धर्म सबसे अच्छा है

मैंने दलितों की जली हुई बस्तियों का दौरा किया

मुझे समझ में आया

कि मेरे धर्म में बहुत सारी गलत बातें हैं

धीरे धीरे मैंने ध्यान दिया कि सभी धर्मों में गलत बातें हैं

लेकिन कोई भी धर्म वाला उन गलत बातों को स्वीकार करने और सुधारने के लिए तैयार नहीं है

इस तरह मुझे धर्म की कट्टरता समझ में आयी

इसके बात मैंने अपनी कट्टरता छोड़ने का फैसला किया

मैंने यह भी फैसला किया कि अब मैं किसी भी धर्म को अपना नहीं मानूंगा

क्योंकि सभी धर्म एक जैसी मूर्खता और कट्टरता से भरे हुए हैं

आदिवासियों के बीच रहते हुए मैंने

पुलिस की ज्यादतियां देखीं

मैंने उन् आदिवासी लड़कियों की मदद करी

जिनके साथ पुलिस वालों और सुरक्षा बलों के जवानों नें सामूहिक बलात्कार किये थे

मैंने उन् माओं को अपने घर में पनाह दी जिनके बेटों और पति को

सुरक्षा बलों नें मार डाला था

ताकि उनकी ज़मीनों को उद्योगपतियों को दिया जा सके

मैंने आदिवासियों के उन गाँव में रातें गुजारीं

जिन गाँव को सुरक्षा बलों नें जला दिया था

उन् जले हुए घरों में बैठ कर मुझे मैंने खुद से सवाल पूछे कि

आखिर इन निर्दोष आदिवासियों के मकान क्यों जलाये गए

घर जलने से किसका फायदा होगा

घर जलाने वाला कौन है

वहाँ मुझे समझ में आया

कि हम जो शहरों में मजे से बैठ कर

बिजली जलाते हैं

शॉपिंग माल में कार में बैठ कर जाते हैं

हम जो बारह सौ रूपये का पीज़ा खाते हैं

वह सब ऐशो आराम तभी संभव है

जब इन आदिवासियों की ज़मीनों पर उद्योगपतियों का कब्ज़ा हो

उद्योग लगेंगे तो हम शहरी पढ़े लिखे लोगों को नौकरी मिलेगी

हमारे विकास के लिए इन आदिवासियों की ज़मीनों पर कब्ज़ा

तो पुलिस और सुरक्षा बलों के जवान ही करेंगे

आदिवासी अपनी ज़मीन नहीं छोडना चाहता

इसलिए हमारे सिपाही आदिवासी का घर जलाते हैं

हम शहरी लोग इसीलिये इन सिपाहियों के गुण गाते हैं

इसीलिये आदिवासी मरता है

या उसके साथ बलात्कार होता है

या उसका घर जलता है तो

हमें बिलकुल भी बुरा नहीं लगता

लेकिन सिपाही के साथ कुछ भी होने पर

हम गाली गलौज करने लगते हैं

आदिवासियों के जले हुए गाँव में बैठ कर

मुझे भारतीय मिडिल क्लास की पूरी राजनीति समझ में

आ गई

मुझे राजनीति विज्ञान

भारतीय लोकतंत्र और न्याय व्यवस्था के अध्यन के लिए किसी विश्वविद्यालय में नहीं जाना पड़ा

वो मैंने खुद अनुभव से सीखा

मुझे कश्मीरी दोस्तों से भी मिलने का मौका मिला

मैंने उनके परिवार के साथ भारतीय सेना और अर्ध सैनिक बलों के ज़ुल्मों के बारे में जाना

चूंकि तब तक मैं समझ चुका था

कि सरकारी फौजें किस तरह से ज़ुल्म करती हैं

इसलिए कश्मीरी जनता पर भारतीय सिपाहियों के ज़ुल्मों को मैं साफ़ दिल से समझ पाया

कश्मीर में सेना नें घरों से जिन नौजवानों को उठा कर मार डाला था

मैं उन बच्चों की माओं से मिला

जिन पुरुषों को सेना नें घरों से उठा लिया

और कई सालों तक जिनका फिर कुछ पता नहीं चला

उनकी पत्नियों से मिला

उन औरतों को कश्मीर में हाफ विडो कहा जाता है

यानी आधी विधवा

मैंने उन महिलाओं के बारे में भी जाना जिनके साथ हमारी सेना के सैनिकों नें बलात्कार किये

मैंने मुज़फ्फर नगर दंगों के बाद वहाँ रह कर काम किया

वहाँ एक फर्जी प्रचार के बाद दंगे किये गए थे

मैंने उस फर्ज़ी प्रचार की पूरी सच्चाई की खोज करी

दंगा अमित शाह ने करवाया था

इन दंगों में एक लाख गरीब मुसलमान बेघर हो गए थे

सर्दी में उन्हें खुले में तम्बुओं में रहना पड़ रहा

वहाँ ठण्ड से साठ से भी ज़्यादा बच्चों की मौत हो गयी थी

इस तरह मैंने देखा कि लव जिहाद के नाम पर

भाजपा नें हिदुओं में असुरक्षा की भावना भड़काई

और उत्तर प्रदेश में भाजपा के लिए सीटें जीतीं

मेरी बेचैनी बढ़ती गयी

मुझे लगने लगा कि हम शहरी लोग इतने स्वार्थी कैसे हो सकते हैं

कि हमारे फायदे के लिए करोड़ों आदिवासियों पर ज़ुल्म किये जाएँ

हम इतने स्वार्थी कैसे हो सकते हैं कि दलितों की बस्तियां जलाई जाएँ

और हम क्रिकेट देखते रहें

कश्मीर में हमारी सेना ज़ुल्म करे और हम उसका समर्थन करें

तभी भाजपा का शासन आ गया

मैंने देखा कि अब दलितों पर अत्याचार करने वाले

और भी ताकतवर हो गए हैं

कश्मीर के ऊपर आवाज़ उठाने के कारण

दलित विद्यार्थियों को हास्टल से निकाला जा रहा है

इसके बाद इन्हें दलित छात्रों में से एक छात्र रोहित वेमुला ने आत्महत्या कर ली

मुझे लगा यह आत्म हत्या नहीं एक तरह की हत्या ही है

साथ साथ सोनी सोरी नाम की आदिवासी महिला के ऊपर सरकार के अत्याचार बढते जा रहे थे

मैं बेचैन था कि आखिर इन मुद्दों पर कोई ध्यान क्यों नहीं देता

तभी सरकार में बैठे लोगों नें भारत माता का शगूफा छोड़ दिया

मुझे लगा कि भारत माता की जय बोलना तो कोई मुद्दा है ही नहीं

यह तो असली समस्याओं से ध्यान भटकाने के लिए

सरकारी चालाकी है

मैंने निश्चय किया

कि मैं भारत माता की जय नहीं बोलूँगा

जैसे मैं अब किसी भगवान की पूजा नहीं करता

लेकिन इंसानों के भले के लिए काम करने की कोशिश करता हूँ

इसी तरह मैं भाजपा के कहने से भारत माता की जय बिलकुल नहीं कहूँगा

अलबत्ता मैं देश के लोगों की सेवा पहले की तरह करता रहूँगा

इस समय भारत माता की जय को लोगों को बेवकूफ बनाने के लिए इस्तेमाल किया जा रहा है

और मैंने बेवकूफ बनने से इनकार कर दिया है.


(हिमांशु कुमार देश के जाने माने  गांधीवादी एक्टिविस्ट हैं।)



Generic placeholder image


ये सर्वे खतरनाक और किसी बडी साजिश का हिस्सा लगते हैं
20 May 2019 - Watchdog

डर पैदा कर रहे हैं एक्गिट पोल के नतीजे
20 May 2019 - Watchdog

न्यूज़ चैनल भारत के लोकतंत्र को बर्बाद कर चुके हैं
19 May 2019 - Watchdog

प्रधानमंत्री की केदारनाथ यात्रा मतदान प्रभावित करने की साजिश : रवीश कुमार
19 May 2019 - Watchdog

अर्थव्यवस्था मंदी में धकेली जा चुकी है और मोदी नाकटबाजी में मग्न हैं
19 May 2019 - Watchdog

भक्ति के नाम पर अभिनय कर रहे हैं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी
18 May 2019 - Watchdog

चुनाव आयोग में बग़ावत, आयोग की बैठकों में शामिल होने से आयुक्त अशोक ल्वासा का इंकार
18 May 2019 - Watchdog

पहली प्रेस कॉन्फ्रेंस में भी बिना सवाल-जवाब के लौटे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी
17 May 2019 - Watchdog

प्रज्ञा ठाकुर ने नाथूराम गोडसे को बताया 'देशभक्त'
16 May 2019 - Watchdog

प्रज्ञा ठाकुर ने नाथूराम गोडसे को बताया 'देशभक्त'
16 May 2019 - Watchdog

छत्तीसगढ़ की जेलों में बंद चार हजार से ज्यादा आदिवासी जल्द ही होंगे रिहा
15 May 2019 - Watchdog

खराब गोला-बारूद से हो रहे हादसों पर सेना ने जताई चिंता
15 May 2019 - Watchdog

मोदी की रैली के पास पकौड़ा बेचने पर 12 स्टूडेंट हिरासत में लिए
15 May 2019 - Watchdog

भारत माता हो या पिता मगर उसकी डेढ़ करोड़ संतानें वेश्या क्यों हैं ?
14 May 2019 - Watchdog

सुपरफास्ट मोदी: 1988 में अपना पहला ईमेल भेज चुके थे बाल नरेंद्र, जबकि भारत में 1995 में शुरू हुई Email की सुविधा
13 May 2019 - Watchdog

आजाद भारत का पहला आतंकी नाथूराम गोडसे हिंदू था
13 May 2019 - Watchdog

सीजेआई यौन उत्पीड़न मामला: शिकायतकर्ता ने कहा- ‘हम सब खो चुके हैं, अब कुछ नहीं बचा’
13 May 2019 - Watchdog

मोदी सरकार में हुआ 4 लाख करोड़ रुपये का बड़ा घोटाला ?
11 May 2019 - Watchdog

क्या मोदी ने भारत की अर्थव्यवस्था चौपट कर दी है?
11 May 2019 - Watchdog

यौन उत्पीड़न के आरोपों में सीजेआई को क्लीन चिट देने का विरोध, सुप्रीम कोर्ट के बाहर प्रदर्शन
07 May 2019 - Watchdog

यौन उत्पीड़न के आरोपों में सीजेआई को क्लीन चिट देने का विरोध, सुप्रीम कोर्ट के बाहर प्रदर्शन
07 May 2019 - Watchdog

अदालत ने अपने मुखिया की रक्षा में न्याय व्यवस्था पर जनता के विश्वास की हत्या कर डाली
07 May 2019 - Watchdog

मोदी-शाह द्वारा चुनाव आचार संहिता के उल्लंघन के आरोपों पर कल सुप्रीम कोर्ट में होगी सुनवाई
29 Apr 2019 - Watchdog

वाराणसी में मोदी के ख़िलाफ़ खड़े बीएसएफ जवान तेज बहादुर यादव को सपा ने बनाया उम्मीदवार
29 Apr 2019 - Watchdog

मोदी के हेलीकॉप्टर की तलाशी लेने वाला चुनाव अधिकारी निलंबित
18 Apr 2019 - Watchdog

साध्वी प्रज्ञा को प्रत्याशी बना भाजपा देखना चाहती है कि हिंदुओं को कितना नीचे घसीटा जा सकता है
18 Apr 2019 - Watchdog

मोदी पर चुनावी हलफनामे में संपत्ति की जानकारी छिपाने का आरोप, सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर
16 Apr 2019 - Watchdog

इसे चुनाव आयोग की लाचारी कहा जाए या मक्कारी?
16 Apr 2019 - Watchdog

रफाल सौदे के बाद फ्रांस सरकार ने अनिल अंबानी के 1100 करोड़ रुपये के टैक्स माफ़ किए: रिपोर्ट
13 Apr 2019 - Watchdog

पूर्व सेनाध्यक्षों ने लिखा राष्ट्रपति को पत्र, कहा-सेना के इस्तेमाल से बाज आने का राजनीतिक दलों को दें निर्देश
12 Apr 2019 - Watchdog


मैंने निश्चय किया कि मैं भारत माता की जय नहीं बोलूँगा