जुमले में बदलने के लिए अभिशप्त है बीजेपी का नया घोषणा पत्र

Posted on 09 Apr 2019 -by Watchdog

बीजेपी ने कल अपना बहुप्रतीक्षित मैनिफेस्टो जारी किया। पहले फेज के चुनाव प्रचार की समाप्ति की पूर्व संध्या पर जारी यह मैनिफेस्टो इस हिस्से के मतदाताओं तक कितना पहुंच पाएगा यह सवाल तो है ही। ऊपर से उसमें ऐसा कुछ नहीं है जिससे मतदाता भविष्य की अपनी जिंदगी में किसी परिवर्तन की नई उम्मीद कर सके। दरअसल पूरे मैनिफेस्टो में कोई नई बात नहीं है। न पिछले कार्यकाल की समीक्षा की गयी है और न ही आगे के लिए कोई ठोस वादे किए गए हैं। वादों के नाम पर उसमें कुछ बड़ी-बड़ी बातें जरूर की गयी हैं जो नया जुमला बनने के लिए अभिशप्त हैं। मसलन 2024 तक 2047 में मनाए जाने वाली आजादी के 100वीं वर्षगांठ के लिए नींव रखी जाएगी। यह बात इस तरह से की गयी है जैसे इसके पहले देश बगैर नींव के ही चल रहा था।

मैनिफेस्टो में न तो शिक्षा है न रोजगार की बात है। स्वास्थ्य के नाम पर बीमा कंपनियों को लाभ पहुंचाने का पूरा दस्तावेज है। और पुराने वादे डिब्बे में बंद कर दिए गए हैं।

इस मौके पर पीएम मोदी ने कहा कि राष्ट्रवाद उनका प्रमुख मुद्दा है। पीएम मोदी का राष्ट्रवाद अगर अब जागा है तो उस पर जरूर गौर किया जाना चाहिए। पीएम मोदी अपनी जगह सही हैं। दअरअसल इस देश के भीतर अंग्रेजों के खिलाफ लड़ाई लड़ते हुए देश के रणबांकुरे जब कुर्बानियां दे रहे थे तब पीएम मोदी के पुरखे न केवल अंग्रेजी हुकूमत की सेवा में लगे हुए थे बल्कि उनके लिए हर तरीके से मुखबिर बने हुए थे। लिहाजा इस जमात का कभी उस राष्ट्रीय चेतना और उसकी भावना से जुड़ाव हो ही नहीं सका। पीएम मोदी जिस राष्ट्रवाद की बात कर रहे हैं वह राष्ट्रवाद सांप्रदायिकता और भेदभाव पर आधारित है। जो जनता को ही आपस में लड़ाने और उसे बांटने की बात करता है। नफरत और घृणा जिसकी बुनियाद है। सही मायने में वह राष्ट्रवाद नहीं बल्कि खंडित राष्ट्रवाद है।

इस बात में कोई शक नहीं कि सांप्रदायिक राष्ट्रवाद की इस जमीन को पुख्ता करने के लिए मैनिफेस्टो में ठोस वादे किए गए हैं। मसलन राम मंदिर एजेंडे में है। कॉमन सिविल कोड का वादा फिर दोहराया गया है। धारा 370 और 35 ए को खत्म करने की बात मैनिफेस्टो में शामिल है। सिटीजनशिप बिल को किसी भी तरीके से पारित कराने की बात कही गयी है।

लेकिन क्या सचमुच में इससे राष्ट्र मजबूत होगा? या फिर उसमें कोई एकता आएगी?  एक परिवार के भीतर भी किसी शख्स की इच्छा के बगैर कोई सामूहिक फैसला नहीं किया जा सकता है। फिर इतने बड़े देश में यह बात कैसे संभव है। यहां तो राज्य के राज्य और कई मामलों में एक तिहाई जनता को दरकिनार कर फैसले लेने की बात की गयी है। धारा 370 महज एक धारा नहीं बल्कि संविधान के भीतर भारत और घाटी को जोड़ने वाला वह पुल है। जिससे दोनों पक्ष जुड़े हुए हैं। अब अगर कोई इस पुल को तोड़ना चाहता है। या फिर उसकी जगह कुछ नया बनाना चाहता है तो यह काम वहां की जनता को विश्वास में लेकर ही किया जा सकता है। लेकिन सच यही है कि हुर्रियत की बात तो छोड़ दीजिए वहां की मुख्यधारा की पार्टियां नेशनल कांफ्रेंस और पीडीपी तक इसके खिलाफ हैं। ऐसे में अगर पूरी घाटी और सारी राजनीतिक पार्टियां इसके खिलाफ खड़ी हो गयीं तो क्या हम कश्मीर को बचा पाएंगे। और फिर सबको नाराज करके बंदूक के बल पर कितने दिनों तक उसे अपने साथ रख सकेंगे?

हमें नहीं भूलना चाहिए कि जिस 35 ए को हटाने की बात की जा रही है उसको खुद वहां के कश्मीरी पंडितों और डोगरा शासकों ने लागू किया था। क्योंकि उन्हें लगता था कि बाहरी लोग बस जाएंगे तो फिर न केवल उनकी संपत्ति का बंटवारा हो जाएगा बल्कि जनसांख्यकीय रूप से भी वो कमजोर हो जाएंगे। 

उत्तर-पूर्व में सिटीजनशिप बिल को लागू करने की कोशिश किस तरह से उस पूरे क्षेत्र के लोगों के अस्तित्व के लिए संकट बन गया है यह पिछले दिनों इसके खिलाफ चले आंदोलनों में देखा जा सकता था। उनको यह बात बिल्कुल साफ-साफ दिखने लगी है कि इस बिल के लागू होने के साथ ही खुद उनके अपने इलाकों में उनके अल्पसंख्यक होने का खतरा पैदा हो जाएगा। इससे न केवल उनकी स्थानीय संस्कृति पर असर पड़ेगा बल्कि उनका पूरा वजूद ही खतरे में पड़ जाएगा। अनायास नहीं नगालैंड से लेकर अरुणाचल प्रदेश तक में पहली बार चीन में शामिल होने का नारा लगा है। 

और देश के भीतर राम मंदिर और कॉमन सिविल कोड की बात कर समाज के हर हिस्से को असुरक्षित कर देना किस राष्ट्रवाद की पहचान हो सकता है? राष्ट्रवाद तो लोगों को जोड़ने का काम करता है। और अगर कोई जनता की भावनाओं को चोट पहुंचाने, उसके वजूद को खतरे में डालने और हर तरीके से उसे सीमित करने की कोशिश करेगा तो क्या उस हिस्से की भावना देश के साथ जुड़ पाएगी? लिहाजा इसे राष्ट्रवाद तो नहीं बल्कि खंडित राष्ट्रवाद जरूर कहा जा सकता है। पीएम मोदी और उनकी पूरी जमात इस खंडित राष्ट्रवाद के ही प्रतिनिधि बन गए हैं।

और आखिर में बात घोषणा पत्र के संकल्प पत्र होने की बात। जिस शख्स ने देश के संविधान की शपथ लेकर पांच सालों में उसकी धज्जियां उड़ाने का काम किया हो। जिसका हर वादा जुमला बनकर रह गया हो। और जिसकी लागू होने वाली चीजें किसी त्रासदी से कम नहीं रही हों। उसके किसी संकल्प के अब क्या कोई मायने रह जाते हैं? 



Generic placeholder image


मोदी सरकार ने चुपके से बदली पर्यावरण नीति
12 Jun 2019 - Watchdog

पत्रकार का आरोप- रेलवे के पुलिसकर्मियों ने मेरे मुंह में पेशाब की
12 Jun 2019 - Watchdog

सख्त हुआ ये राज्य, रेप करने वालों को लगेंगे नपुंसक बनाने के इंजेक्शन
12 Jun 2019 - Watchdog

आंकड़ों की इस धोखेबाज़ी की बाकायदा जांच होनी चाहिए
11 Jun 2019 - Watchdog

उत्तराखंड के वित्त मंत्री प्रकाश पंत का निधन
06 Jun 2019 - Watchdog

कारगिल युद्ध में भाग लेने वाले ऑफिसर विदेशी घोषित, परिवार समेत नज़रबंदी शिविर भेजा गया
03 Jun 2019 - Watchdog

वाम नेतृत्व को अपना खोल पलटने की ज़रूरत है
03 Jun 2019 - Watchdog

नरेंद्र मोदी ने दूसरी बार प्रधानमंत्री पद की शपथ ली
31 May 2019 - Watchdog

मोदी मंत्रिमंडल: अमित शाह बने गृह मंत्री, राजनाथ रक्षा मंत्री और एस. जयशंकर विदेश मंत्री
31 May 2019 - Watchdog

30 मई को ईवीएम के खिलाफ राष्ट्रीय विरोध दिवस
29 May 2019 - Watchdog

भाजपा को 300 से ज़्यादा सीटें मिलने की संभावना, मोदी ने कहा- एक बार फिर भारत जीता
23 May 2019 - Watchdog

ये सर्वे खतरनाक और किसी बडी साजिश का हिस्सा लगते हैं
20 May 2019 - Watchdog

डर पैदा कर रहे हैं एक्गिट पोल के नतीजे
20 May 2019 - Watchdog

न्यूज़ चैनल भारत के लोकतंत्र को बर्बाद कर चुके हैं
19 May 2019 - Watchdog

प्रधानमंत्री की केदारनाथ यात्रा मतदान प्रभावित करने की साजिश : रवीश कुमार
19 May 2019 - Watchdog

अर्थव्यवस्था मंदी में धकेली जा चुकी है और मोदी नाकटबाजी में मग्न हैं
19 May 2019 - Watchdog

भक्ति के नाम पर अभिनय कर रहे हैं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी
18 May 2019 - Watchdog

चुनाव आयोग में बग़ावत, आयोग की बैठकों में शामिल होने से आयुक्त अशोक ल्वासा का इंकार
18 May 2019 - Watchdog

पहली प्रेस कॉन्फ्रेंस में भी बिना सवाल-जवाब के लौटे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी
17 May 2019 - Watchdog

प्रज्ञा ठाकुर ने नाथूराम गोडसे को बताया 'देशभक्त'
16 May 2019 - Watchdog

प्रज्ञा ठाकुर ने नाथूराम गोडसे को बताया 'देशभक्त'
16 May 2019 - Watchdog

छत्तीसगढ़ की जेलों में बंद चार हजार से ज्यादा आदिवासी जल्द ही होंगे रिहा
15 May 2019 - Watchdog

खराब गोला-बारूद से हो रहे हादसों पर सेना ने जताई चिंता
15 May 2019 - Watchdog

मोदी की रैली के पास पकौड़ा बेचने पर 12 स्टूडेंट हिरासत में लिए
15 May 2019 - Watchdog

भारत माता हो या पिता मगर उसकी डेढ़ करोड़ संतानें वेश्या क्यों हैं ?
14 May 2019 - Watchdog

सुपरफास्ट मोदी: 1988 में अपना पहला ईमेल भेज चुके थे बाल नरेंद्र, जबकि भारत में 1995 में शुरू हुई Email की सुविधा
13 May 2019 - Watchdog

आजाद भारत का पहला आतंकी नाथूराम गोडसे हिंदू था
13 May 2019 - Watchdog

सीजेआई यौन उत्पीड़न मामला: शिकायतकर्ता ने कहा- ‘हम सब खो चुके हैं, अब कुछ नहीं बचा’
13 May 2019 - Watchdog

मोदी सरकार में हुआ 4 लाख करोड़ रुपये का बड़ा घोटाला ?
11 May 2019 - Watchdog

क्या मोदी ने भारत की अर्थव्यवस्था चौपट कर दी है?
11 May 2019 - Watchdog



जुमले में बदलने के लिए अभिशप्त है बीजेपी का नया घोषणा पत्र