सीबीआई विवाद मोदी के ‘गुड गवर्नेंस’ के दावे की पोल खोलता है

Posted on 25 Oct 2018 -by Watchdog

स्वाति चतुर्वेदी

नई दिल्ली: केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो (सीबीआई) के निदेशक आलोक वर्मा ने प्रधानमंत्री कार्यालय (पीएमओ) से लिखित में सिफारिश की है कि सीबीआई के विशेष निदेशक और कथित भ्रष्टाचार के मामले के आरोपी राकेश अस्थाना को करोड़ों की रिश्वत के इस मामले में चल रही जांच पूरी होने तक निलंबित किया जाए, साथ ही उन्हें वापस उनके मूल कैडर गुजरात भेजा जाए क्योंकि वे सीबीआई में काम करने के लिए ‘अयोग्य’ हैं.

पीएमओ को भेजा गया औपचारिक पत्र या संदेश इसलिए महत्वपूर्ण हो जाता है क्योंकि इसके प्रति प्रधानमंत्री की सीधी जवाबदेही बनती है.

आलोक वर्मा यह बात प्रधानमंत्री को दो बार बता चुके हैं- पहली बार रविवार शाम हुई एक मुलाकात में और दूसरी बार सोमवार को लिखित में. वर्मा ने ‘बढ़ते हुए संक्रमण’ के बारे में बताया है, जो कैबिनेट सचिवालय की रिसर्च एंड एनालिसिस विंग (रॉ) समेत जांच और सुरक्षा एजेंसियों के लिए खतरा बन सकता है.

इसका जिम्मा नरेंद्र मोदी के सिर आता है क्योंकि केंद्र सरकार का कार्मिक और प्रशिक्षण विभाग (डीओपीटी) सीधे पीएमओ के अधीन है.

आलोक वर्मा जनवरी में रिटायर होने वाले हैं और अस्थाना, जो मोदी-अमित शाह दोनों के करीबी माने जाते हैं, वर्मा के बाद निदेशक के लिए पहली पसंद होंगे. असल में, आलोक वर्मा की नियुक्ति से पहले ही अस्थाना को कुछ महीनों के लिए सीबीआई निदेशक बनाया गया था.

15 अक्टूबर को एक अप्रत्याशित कदम उठाते हुए सीबीआई ने हैदराबाद के कारोबारी सतीश बाबू सना की शिकायत पर राकेश अस्थाना को मुख्य आरोपी बनाते हुए एक एफआईआर दर्ज की. इस मामले में सह-आरोपी दुबई के एक इनवेस्टमेंट बैंकर मनोज प्रसाद हैं, जिन्हें गिरफ्तार किया जा चुका है.

सोमवार को सीबीआई ने अपने डिप्टी एसपी देवेंद्र कुमार को गिरफ्तार किया, जिन पर सना से 3 करोड़ रुपये की रिश्वत लेने का आरोप है.

सीबीआई के भीतर मचा यह घमासान भ्रष्टाचार के बदनुमा चेहरे को सामने लाता है और मोदी के ‘गुड गवर्नेंस’ के दावे का मज़ाक उड़ाता है. इससे राकेश अस्थाना द्वारा जांचे गए हाई-प्रोफाइल मामलों, जिसमें विजय माल्या (द वायर  द्वारा इस मामले को कमज़ोर करने के बारे में बताया गया था ) और अगस्ता वेस्टलैंड के मामले शामिल हैं, की जांच पर भी सवालिया निशान खड़े होते हैं.

सूत्र बताते हैं कि आलोक वर्मा सीबीआई के कामकाज में गैर-संवैधानिक दखल को रोकने के प्रयास कर रहे थे, वहीं राकेश अस्थाना को, वरिष्ठ अधिकारियों के अनुसार ‘गुजरात मॉडल’, के साथ काम करने में कोई परेशानी नहीं है.

मौजूदा संकट का सार यही है. यहां तक कि पीएमओ भी निष्पक्ष नहीं है, बल्कि इन सब में एक सक्रिय खिलाड़ी के बतौर शामिल है. राकेश अस्थाना को पीएमओ के आला अधिकारियों का सहयोग प्राप्त है और बाकियों का रवैया उनके प्रति नरम है.

सीबीआई निदेशक सत्तारूढ़ दल के नेतृत्व द्वारा विपक्षी नेताओं को डराने के लिए छापे मारने के मनमाने इस्तेमाल के भी खिलाफ भी हैं. सीबीआई के एक मामले में आरोप पत्र दाखिल कर देने के बावजूद सीबीआई को एक प्रमुख विपक्षी नेता के यहां छापा मारने का आदेश मिला था.

आलोक वर्मा ने यह कहते हुए इससे इनकार कर दिया था कि सबूत जमा करने के लिए छापे मारने की अवधि ख़त्म हो चुकी है और किसी नई जानकारी की आवश्यकता नहीं है.

इसी तरह, वर्मा ने विपक्ष के कम से कम तीन मुख्यमंत्रियों पर छापे और गिरफ्तारियों को रोका था. एक मामले में प्रमुख सचिव को गिरफ्तार किया गया था और मुख्यमंत्री के यहां छापा पड़ा. वहीं एक अन्य मुख्यमंत्री के भतीजे के खिलाफ आय से अधिक संपत्ति रखने के मामले में जांच की जा रही है.

विपक्ष की एक प्रमुख महिला नेता के भाई को सीबीआई द्वारा जब-तब निशाना बनाया जाता है और जब भी वे एक महत्वपूर्ण गठबंधन से जुड़ने को लेकर फैसला करने वाली होती हैं, उनके भाई को दो दिन के लिए हिरासत में ले लिया जाता है.

एक अन्य उदाहरण भी है, जहां बताया जाता है कि अस्थाना भ्रष्टाचार के एक मामले 70 साल की एक विपक्षी नेता और उनके बेटे को गिरफ्तार करना चाहते थे. आलोक वर्मा ने तब तर्क दिया था कि यह वित्तीय अपराध है इसलिए इसमें हिरासत के बजाय पैसे के लेन-देन की जानकारी की जरूरत है.

सूत्रों का कहना है कि यह बिल्कुल स्पष्ट है कि सीबीआई के अंदर चल रही यह खींचतान, उस राजनीति से जुड़ी है, जिसे कुछ लोग गुजरात से आयातित बताते हैं. और यह खींचतान केवल सीबीआई से जुड़ी नहीं है, बल्कि इसमें प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) और रॉ भी शामिल हैं.

(स्वाति चतुर्वेदी वरिष्ठ पत्रकार हैं.)



Generic placeholder image


ये सर्वे खतरनाक और किसी बडी साजिश का हिस्सा लगते हैं
20 May 2019 - Watchdog

डर पैदा कर रहे हैं एक्गिट पोल के नतीजे
20 May 2019 - Watchdog

न्यूज़ चैनल भारत के लोकतंत्र को बर्बाद कर चुके हैं
19 May 2019 - Watchdog

प्रधानमंत्री की केदारनाथ यात्रा मतदान प्रभावित करने की साजिश : रवीश कुमार
19 May 2019 - Watchdog

अर्थव्यवस्था मंदी में धकेली जा चुकी है और मोदी नाकटबाजी में मग्न हैं
19 May 2019 - Watchdog

भक्ति के नाम पर अभिनय कर रहे हैं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी
18 May 2019 - Watchdog

चुनाव आयोग में बग़ावत, आयोग की बैठकों में शामिल होने से आयुक्त अशोक ल्वासा का इंकार
18 May 2019 - Watchdog

पहली प्रेस कॉन्फ्रेंस में भी बिना सवाल-जवाब के लौटे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी
17 May 2019 - Watchdog

प्रज्ञा ठाकुर ने नाथूराम गोडसे को बताया 'देशभक्त'
16 May 2019 - Watchdog

प्रज्ञा ठाकुर ने नाथूराम गोडसे को बताया 'देशभक्त'
16 May 2019 - Watchdog

छत्तीसगढ़ की जेलों में बंद चार हजार से ज्यादा आदिवासी जल्द ही होंगे रिहा
15 May 2019 - Watchdog

खराब गोला-बारूद से हो रहे हादसों पर सेना ने जताई चिंता
15 May 2019 - Watchdog

मोदी की रैली के पास पकौड़ा बेचने पर 12 स्टूडेंट हिरासत में लिए
15 May 2019 - Watchdog

भारत माता हो या पिता मगर उसकी डेढ़ करोड़ संतानें वेश्या क्यों हैं ?
14 May 2019 - Watchdog

सुपरफास्ट मोदी: 1988 में अपना पहला ईमेल भेज चुके थे बाल नरेंद्र, जबकि भारत में 1995 में शुरू हुई Email की सुविधा
13 May 2019 - Watchdog

आजाद भारत का पहला आतंकी नाथूराम गोडसे हिंदू था
13 May 2019 - Watchdog

सीजेआई यौन उत्पीड़न मामला: शिकायतकर्ता ने कहा- ‘हम सब खो चुके हैं, अब कुछ नहीं बचा’
13 May 2019 - Watchdog

मोदी सरकार में हुआ 4 लाख करोड़ रुपये का बड़ा घोटाला ?
11 May 2019 - Watchdog

क्या मोदी ने भारत की अर्थव्यवस्था चौपट कर दी है?
11 May 2019 - Watchdog

यौन उत्पीड़न के आरोपों में सीजेआई को क्लीन चिट देने का विरोध, सुप्रीम कोर्ट के बाहर प्रदर्शन
07 May 2019 - Watchdog

यौन उत्पीड़न के आरोपों में सीजेआई को क्लीन चिट देने का विरोध, सुप्रीम कोर्ट के बाहर प्रदर्शन
07 May 2019 - Watchdog

अदालत ने अपने मुखिया की रक्षा में न्याय व्यवस्था पर जनता के विश्वास की हत्या कर डाली
07 May 2019 - Watchdog

मोदी-शाह द्वारा चुनाव आचार संहिता के उल्लंघन के आरोपों पर कल सुप्रीम कोर्ट में होगी सुनवाई
29 Apr 2019 - Watchdog

वाराणसी में मोदी के ख़िलाफ़ खड़े बीएसएफ जवान तेज बहादुर यादव को सपा ने बनाया उम्मीदवार
29 Apr 2019 - Watchdog

मोदी के हेलीकॉप्टर की तलाशी लेने वाला चुनाव अधिकारी निलंबित
18 Apr 2019 - Watchdog

साध्वी प्रज्ञा को प्रत्याशी बना भाजपा देखना चाहती है कि हिंदुओं को कितना नीचे घसीटा जा सकता है
18 Apr 2019 - Watchdog

मोदी पर चुनावी हलफनामे में संपत्ति की जानकारी छिपाने का आरोप, सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर
16 Apr 2019 - Watchdog

इसे चुनाव आयोग की लाचारी कहा जाए या मक्कारी?
16 Apr 2019 - Watchdog

रफाल सौदे के बाद फ्रांस सरकार ने अनिल अंबानी के 1100 करोड़ रुपये के टैक्स माफ़ किए: रिपोर्ट
13 Apr 2019 - Watchdog

पूर्व सेनाध्यक्षों ने लिखा राष्ट्रपति को पत्र, कहा-सेना के इस्तेमाल से बाज आने का राजनीतिक दलों को दें निर्देश
12 Apr 2019 - Watchdog


सीबीआई विवाद मोदी के ‘गुड गवर्नेंस’ के दावे की पोल खोलता है