अदालत ने अपने मुखिया की रक्षा में न्याय व्यवस्था पर जनता के विश्वास की हत्या कर डाली

Posted on 07 May 2019 -by Watchdog

अपूर्वानंद /The Wire

न्याय के विचार को न्याय का विचार करने वालों के हाथों ही मर्मांतक चोट पहुंची है. बीते छह मई को उच्चतम न्यायालय की ओर से जनता को बताया गया कि मुख्य न्यायाधीश के ख़िलाफ़ न्यायालय की एक पूर्व कर्मचारी के द्वारा लगाया गया यौन उत्पीड़न का आरोप सिद्ध नहीं पाया गया है.

ऐसा इस मामले की जांच करने के लिए गठित तीन सदस्यीय जजों की समिति का निष्कर्ष है. यह स्पष्ट नहीं है कि क्या आरोप मिथ्या पाया गया या उसे सिद्ध करने के लिए पर्याप्त आधार नहीं मिल पाए.

अदालत के प्रशासन ने कहा कि रिपोर्ट सार्वजनिक नहीं की जाएगी, लेकिन यह साफ़ है कि उसे मुख्य न्यायाधीश, जो इस मामले में एक पक्ष हैं और जिस पर आरोप लगा है, यह रिपोर्ट देख सकेंगे. क्या इस रिपोर्ट को उच्चतम न्यायालय के सारे न्यायाधीश देख सकेंगे?

लेकिन आख़िर जनता से क्या पर्दादारी है? उसी जनता से, जिसके पास पिछले ही साल हमारे चार जज शीर्ष न्यायालय के भीतर की शिकायत लेकर पहुंचे थे. अगर पिछले साल वह इस लायक थी तो अब क्यों उसी जनता से रिपोर्ट साझा करने में झिझक है?

क्या जांच समिति की रिपोर्ट से इस प्रसंग का पटाक्षेप हो गया या जैसा हमने पहले लिखा, उच्चतम न्यायालय की पूरी पीठ बैठकर आगे इस पर कोई कार्रवाई का रास्ता और तरीक़ा तय करेगी?

जांच समिति ने कुल जमा चार बैठकों में यह नतीजा निकाल लिया कि शिकायत करने वाली महिला के आरोप में कोई दम नहीं है. इंसाफ़ की इस तेज़ रफ़्तार पर कोई भी समिति ईर्ष्या करेगी.

हमारे यहां इस तरह के आरोप की जांच में महीनों लग जाते हैं. यह सुस्ती की वजह से नहीं होता, बल्कि इस कारण कि इस क़िस्म के संवेदनशील मामले में जांच समितियां हर तरह का ऐहतियात बरतने की पूरी कोशिश करती हैं. इसका एक कारण यह है कि उनकी प्रक्रिया निर्दोष दिखलाई भी पड़े.

लेकिन उच्चतम न्यायालय की इस समिति को लोकलाज की परवाह नहीं है, क्योंकि अपने हर कार्य की वैधता का स्रोत स्वयं वही है. यानी मैं जो हूं, वह अपने आप में मेरे हर कार्य को वैध ठहराने का पर्याप्त कारण है.

उसने यह भी नहीं सोचा कि शिकायत करने वाली स्त्री ने तीन सुनवाइयों के बाद ख़ुद को जांच से अलग कर लिया. उसने अपनी बात सार्वजनिक की. कहा कि उसे तीन न्यायाधीशों की पूछताछ का सामना करने के लिए कम से कम एक वकील की मदद दी जाए. सुनवाइयों की रिपोर्ट उसे दी जाए. उसने कहा कि उसके साथ ठीक तरीक़े से पेश नहीं आया जा रहा है.

जांच समिति ने इन मांगों को विचारणीय भी नहीं पाया. उसने सैकड़ों महिला और पुरुष वकीलों और समाज के अलग-अलग क्षेत्रों में काम करने वालों की अपील को सुनना ज़रूरी भी नहीं समझा. तय कर लिया कि वह स्त्री की जांच में भागीदारी के बिना भी काम जारी रखेगी.

ख़बरों के मुताबिक, मुख्य न्यायाधीश को समिति के सामने आने के पहले प्रश्न उपलब्ध करा दिए गए थे. यह महिला के साथ नहीं किया गया.

महिला ने अपने विस्तृत आरोप-पत्र में कई और नाम लिए थे जो इस मामले में प्रासंगिक थे. लेकिन जैसा जांच की तेज़ी से अंदाज़ा लगाया जा सकता है, उनसे बातचीत करनी ज़रूरी नहीं समझी गई.

संस्था के भीतर जांच हो, इसके लिए सबसे आवश्यक माना जाता है कि अगर आरोपी वहां निर्णयकारी स्थिति में है, तो वहां से उसे हटाया जाए.

पिछले दिनों ऐसे कितने ही प्रसंग हमारे सामने आए जिनमें संस्था के प्रमुखों को कार्य से मुक्त किया गया. निष्पक्षता की यह पहली शर्त मानी जाती है. लेकिन इस विशेष मामले में ऐसा नहीं हुआ.

न सिर्फ़ यह बल्कि आरोप लगने के बाद ख़ुद मुख्य न्यायाधीश ने ही पीठ गठित करके शिकायत करने वाली महिला पर तीखा हमला किया. वरिष्ठ न्यायाधीशों ने शिकायत पर शक ज़ाहिर करने में देर न लगाई.

कहा गया कि यह आरोप सिर्फ़ मुख्य न्यायाधीश के ख़िलाफ़ नहीं, बल्कि न्यायपालिका की स्वायत्तता के ख़िलाफ़ साज़िश है.

यह सब कुछ कार्यस्थल पर यौन उत्पीड़न के प्रसंग में ख़ुद उच्चतम न्यायालय द्वारा स्थापित प्रक्रिया का उच्चतम न्यायालय द्वारा ही उल्लंघन था. यह सब कुछ वरिष्ठ, कनिष्ठ, स्त्री, पुरुष, सभी वक़ील ज़ोर-ज़ोर से बार-बार कह रहे थे. लेकिन उच्चतम न्यायालय ने किसी की परवाह न की.

सुना गया कि अदालत के अंदर के ही एक न्यायाधीश जस्टिस चंद्रचूड़ ने अनुरोध किया था कि जांच में पारदर्शिता लाई जानी चाहिए और उसकी प्रक्रिया न्यायसंगत होनी चाहिए. उन्हें भी नहीं सुना गया.

आरोप लगने के दो हफ़्ते के भीतर चटपट इंसाफ़ कर दिया गया. महाजन महाजन सिद्ध हुए, साधारण स्त्री एक मिथ्यावादी शिकायती साबित हुई.

हमें जो सुनाई पड़ा वह यह था, ‘हर किसी को अपनी औकात में रहना चाहिए.’ उस औरत ने औकात से बाहर जाने की कोशिश की और उसके नतीजे भुगत रही है.

अदालत ने अपने मुखिया की मर्यादा की रक्षा में न्याय व्यवस्था पर साधारणजन के विश्वास की हत्या कर डाली है.

रवींद्रनाथ ठाकुर ने राष्ट्रवाद नामक अपने निबंध में पश्चिम की तारीफ़ एक जगह यह कहकर की है कि उससे हमें क़ानून के राज के बारे में समझ मिली. क़ानून समानता के सिद्धांत पर काम करता है. इसी कारण गांधी को भी क़ानून का राज पसंद था. वह बराबरी का राज भी है.

लेकिन अभी जिस एक उसूल को ठोकर मारी गई, तो वह बराबरी का उसूल है.

अभी अगर टैगोर और गांधी होते तो न्यायाधीशों को क्या सलाह देते? यह कि ख़ुद को उन्हीं सिद्धांतों की कसौटी पर कसें, जो उन्होंने सबके लिए बनाई हैं. उन्हीं प्रक्रियाओं से गुज़रें जो औरों के लिए ठीक और ज़रूरी मानी गई हैं.

यह ध्यान रहे कि न्यायाधीश भी मनुष्य है और मानवीय दुर्बलताएं उनके भीतर भी हो सकती हैं. उन्होंने जस्टिस कर्णन को जेल भेजकर शायद यही बताया था.

फिर आज मुख्य न्यायाधीश पर एक आरोप के सामने क्यों सारे उसूलों और प्रक्रियाओं को तिलांजलि दे दी गई? क्या सारे न्यायाधीश भूल गए कि न्यायपालिका का संस्थान उन सबसे बड़ा है, क्या वे ये भूल गए कि वे नश्वर हैं लेकिन इस संस्थान की उम्र को राष्ट्र के लिए दीर्घ होना है.

वे प्रभु नहीं सिर्फ़ निश्चित अवधि तक इसके न्यासी मात्र हैं. जाते वक़्त उन्हें चादर ज्यों की त्यों धर कर जाना है. लेकिन इस प्रसंग से न्याय की चादर पर जो दाग़ लगा है, वह कैसे मिटाया जा सकेगा?

जो एक जगह सिद्धांत और प्रक्रिया पर पद और औकात को वरीयता देता है, वह दूसरे मामलों में कैसे विश्वसनीय माना जाएगा? तो क्या न्याय इत्तेफ़ाक़ का मामला होकर रह जाएगा?

अभी भी मौक़ा है. उच्चतम न्यायालय की संपूर्ण पीठ बैठकर एक पारदर्शी प्रक्रिया के तहत बाहरी लोगों की निगरानी में जांच करवा सकती है और यह बता सकती है कि इस संस्था में ख़ुद को दुरुस्त करने की इच्छा भी है, हिम्मत भी और ताक़त भी, कि हमारे न्यायाधीश मानते हैं कि उन सबसे बड़ा न्याय का विचार है.

(लेखक दिल्ली विश्वविद्यालय में प्रोफेसर हैं.)



Generic placeholder image


राष्ट्रपति मेडल से सम्मानित पुलिस अधिकारी को आतंकियों के साथ पकड़ा गया
13 Jan 2020 - Watchdog

जेएनयू हिंसा फुटेज सुरक्षित रखने की याचिका पर हाईकोर्ट का वॉट्सऐप, गूगल, एप्पल, पुलिस को नोटिस
13 Jan 2020 - Watchdog

जेएनयू छात्रसंघ अध्यक्ष आइशी घोष पर एफआईआर, हमलावर ‘संघी गुंडे’ घूम रहे हैं खुलेआम
07 Jan 2020 - Watchdog

‘जब CAA-NRC पर बात करने बीजेपी वाले घर आएं तो जरूर पूछिए ये सवाल’
23 Dec 2019 - Watchdog

भारत के संविधान के साथ अब तब का सबसे बड़ा धोखा है मोदी का नागरिकता कानून
21 Dec 2019 - Watchdog

नागरिकता कानून के खिलाफ देशभर में विरोध प्रदर्शन
19 Dec 2019 - Watchdog

नागरिकता क़ानून के विरोध की आग दिल्ली पहुंची, 3 बसों में लगाई आग
15 Dec 2019 - Watchdog

लोगों से पटी सड़कें ही दे सकती हैं सब कुछ खत्म न होने का भरोसा
14 Dec 2019 - Watchdog

नागरिकता कानून के खिलाफ मार्च कर रहे जामिया के छात्रों पर लाठीचार्ज
13 Dec 2019 - Watchdog

मोदी-शाह ने सावरकर-जिन्ना को जिता दिया गांधी हार गए
12 Dec 2019 - Watchdog

नागरिकता बिल देश के साथ गद्दारी है
12 Dec 2019 - Watchdog

नागरिकता बिल और कश्मीर पर संघी झूठ
11 Dec 2019 - Watchdog

विवादास्पद नागरिकता संशोधन विधेयक लोकसभा में पेश
09 Dec 2019 - Watchdog

जेएनयू छात्रों के मार्च पर फिर बरसीं पुलिस की लाठियां, कई छात्र गंभीर रूप से घायल
09 Dec 2019 - Watchdog

कालापानी को लेकर भारत के नेपाल से बिगड़ते सम्बंध
07 Dec 2019 - Watchdog

संविधान विरोधी नागरिकता बिल देश को बांटने
05 Dec 2019 - Watchdog

हरीश रावत का " उपवास " गॉधीवाद का भी घोर अपमान है
05 Dec 2019 - Watchdog

सत्ता की बौखलाहट का शिकार हुए पत्रकार शिव प्रसाद सेमवाल?
27 Nov 2019 - Watchdog

सुप्रीम कोर्ट का फैसला मुसलमानों के लिए बड़ी जीत है
10 Nov 2019 - Watchdog

अयोध्या पर सुप्रीम कोर्ट का फैसला समझना मेरे लिए मुश्किल: सुप्रीम कोर्ट के रिटायर्ड जज
10 Nov 2019 - Watchdog

पुनरावलोकन : हिंसक समय में गांधी
02 Oct 2019 - Watchdog

भारत में अगले दो दशक बहुत अशांत और खूनी होंगे, जस्टिस काटजू
02 Oct 2019 - Watchdog

आरबीआई गवर्नर ने भी कहा - मंदी गहरा रही है
22 Aug 2019 - Watchdog

कश्मीर में नेताओं की गिरफ़्तारी पर डीएमके व अन्य विपक्षी पार्टियों ने जंतर मंतर पर किया विरोध प्रदर्शन
22 Aug 2019 - Watchdog

गहराता आर्थिक संकट भारत में फासीवाद की ज़मीन तैयार कर रहा है
16 Aug 2019 - Watchdog

खुली जेल में तब्दील हो गयी है घाटी, कश्मीरियों ने कहा-संविधान की भी इज्जत नहीं बख्शी
16 Aug 2019 - Watchdog

कश्मीर की जनता के समर्थन में प्रदर्शन को रोकने के लिए लखनऊ में रिहाई मंच के कई नेता हाउस अरेस्ट
16 Aug 2019 - Watchdog

जम्मू-कश्मीर: दलित आरक्षण पर मोदी-शाह ने बोला सफ़ेद झूठ, सच्चाई जानकर आप दंग रह जाएंगे
12 Aug 2019 - Watchdog

अनुच्छेद 370 खात्मे के खिलाफ नेशनल कांफ्रेंस ने खटखटाया सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा
12 Aug 2019 - Watchdog

भारत अब किसी भी बड़े जनसंहार के लिए बिल्कुल तैयार है ?
11 Aug 2019 - Watchdog



अदालत ने अपने मुखिया की रक्षा में न्याय व्यवस्था पर जनता के विश्वास की हत्या कर डाली