असली नक्सलियों के बीच

Posted on 28 Sep 2018 -by Watchdog

प्रेमकुमार मणि

आज पटना के गाँधी मैदान में भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (मार्क्सवादी - लेनिनवादी ) की रैली थी . जिसमे भेस बदलकर कुछ समय केलिए मैं भी गया था ,तमाशा देखने . यूँ , आयोजकों ने आमंत्रित भी किया था . कुछ रोज पहले बिहार भाकपा-माले के सचिव कुणाल जी मिलने आये थे . उनसे देर तक बातें हुई थीं .

भाकपा-माले देश की तीसरी कम्युनिस्ट पार्टी है ,जो बंगाल के नक्सलबाड़ी जिले में किसान विद्रोह को समर्थन देने के क्रम में बनी . इसलिए इन्हें असली नक्सली कहा जा सकता है . पार्टी ने इतने लम्बे समय में स्वयं को बहुत बदला है . इसके दिवंगत नेता विनोद मिश्र में बदली हुई स्थितियों में खुद को बदलने की जादुई ताकत थी . आज भी शायद यह पार्टी उसी रास्ते पर है . फिलहाल यह बिहार की एकमात्र कम्युनिस्ट पार्टी है ,जिसके विधान सभा में तीन सदस्य हैं और मिहनतक़श तबकों के एक बड़े हिस्से पर जिसकी पकड़ है .

भाकपा माले खुद को आज भी बदल रही है . इसी महीने 5 सितम्बर को गौरी लंकेश की बरखी पर पार्टी महासचिव दीपांकर भट्टाचार्य और मैंने एक सम्मेलन को सम्बोधित किया था . बाद में उसी रोज फासिज्म के खिलाफ सड़क पर एक नुक्क्ड़ सभा को भी सम्बोधित किया था . मैंने यही महसूस किया , दीपांकर लकीर के फ़क़ीर बनना नहीं चाहते . उनकी पार्टी एक नए वैचारिक आयाम में प्रवेश करना चाहती है . या उसके लिए पंख फड़फड़ा रही है . माले ने मार्क्सवाद को फुले ,आंबेडकर के विचारों और भगत सिंह के सपनों से मंडित करने की पहल की है . 1990 के दशक में ही इस पार्टी ने ब्राह्मणवाद विरोध को अपनी कार्यसूची में शामिल किया था . आज वह इस पर जोर दे रहे हैं .

मार्क्सवाद के साथ फुले -अम्बेडकरवाद की समझदारी यदि जुड़ती है ,तब भारत में एक बड़ी वैचारिक क्रांति की सम्भावना बनेगी . भाजपा की फासिस्ट राजनीति आज जिस मुकाम पर है ,उसे मानसरोवर यात्राओं और जातियों के जोड़ तोड़ की राजनीति से जवाब नहीं जा सकता . एक वैज्ञानिक राजनैतिक चेतना की जरूरत होगी ,जिसे मार्क्स -फुले -आंबेडकर -भगत सिंह के विचारों के माध्यम से ही हासिल किया जा सकता है . कुछ लोगों ने मार्क्सवाद को बहसों में बाँध दिया है और आंबेडकरवाद को आरक्षण में . ऐसे लोगों ने इन दोनों के विचारों को बाँझ बना दिया है . आम्बेडकर अपने विचारों में किसी मार्क्सवादी से अधिक वैज्ञानिकता रखते हैं . उनने गाँधीवादी ग्रामवाद को नहीं स्वीकार किया . शहरीकरण पर जोर दिया . भूमि के राष्ट्रीयकरण की बात की और मज़दूर तबके केलिए मौलिक ढंग से सोचा . उन्होंने नेहरू मंत्रिमंडल से इस्तीफा दलितों के सवाल पर नहीं , स्त्रियों के सवाल पर दिया था . गांवों का सुस्त जीवन यापन ,ज़मीन पर हल नहीं जोतने वालों की मिल्कियत और स्त्रियों की गुलामी --यही ब्राह्मणवादी जातिवादी व्यवस्था के आधार हैं .इसी से एक सुस्त गतिहीन आर्थिक व्यवस्था बनती है . मार्क्सवाद यूरोपीय समाज ,खासकर उन्नीसवीं सदी के समाज को देखकर साकार हुआ था . मार्क्स इंग्लैंड के संसदीय विकास ,फ्रांसीसी क्रांति और अमेरिकी स्वतंत्रता आंदोलन से बहुत प्रभावित थे . आंबेडकर भी विश्व की इन तीनों घटनाओं से अत्यधिक प्रभावित थे . इसमें उन्होंने भारतीय वैचारिक आंदोलन को भी शामिल कर लिया था . खासकर बौद्ध विवेकवाद को . उनकी किताब रेवोलुशन एंड काउंटर रेवोलुशन इन अन्सिएंट इंडिया से यह स्पष्ट है . मार्क्स ने 1858 में भारत विषयक लेखों में ग्रामीण स्तर की सुस्त अर्थव्यवस्था को ही ओरियंटल डिस्पोटिस्म और जटिल जातिवाद का आधार माना है . आंबेडकर भी ऐसा ही सोचते थे . हाँ ,वह मार्क्स के सर्वहारा अधिनायकवाद से सहमत नहीं थे . इसकी जगह वह सर्वहारा का जनतंत्र चाहते थे .

लेकिन अब बातें नहीं , रैली की कुछ छवियां . रैली में ही ले चलता हूँ . चिलचिलाती धूप है . खुला मंच . जनता यदि धूप में है, तो नेता भी . अंतर इतना ही है कि उनके लिए प्लास्टिक की कुर्सियां है . मैंने घूम -घूम कर लोगों से बातें की . जनवितरण प्रणाली ,स्कूल ,स्वास्थ्य आदि पर बातें की . मोदी और नीतीश का बाजार भाव जानना चाहा . जनता में बेहद गुस्सा है . यह गुस्सा समाज के सबसे निचले हिस्से का है . ये दलित नहीं हैं ,ओबीसी -सवर्ण नहीं हैं ,गरीब -गुरबे हैं . सर्वहारा हैं . इनका ग़ुस्सा मतलब रखता है . लेकिन दिनरात जाति की राजनीति कर रहे पेशेवर राजनेता और पत्रकार इस गुस्से को नहीं समझना चाहेंगे .

मंच से हो रहे भाषणों में मेरी दिलचस्पी नहीं थी . उन हज़ारों चेहरों और आँखों को मैं पढ़ना चाहता था ,जो मलिन कहे जा सकते थे . वे फटेहाल थे ,बदहाल थे ,लेकिन उदास नहीं थे . उनकी आँखों में एक सपना था . बेहतर जीवन , बेहतर भविष्य का सपना . दिल्ली और पटना की धारा -सभाओं में जुगाली कर रहे तथाकथित नेताओं से वे अधिक राजनीतिक भी थे . वे हिंदुत्व और इस्लाम केलिए नहीं ; अपने भारत केलिए चिलचिलाती धूप में बैठे या खड़े थे .



Generic placeholder image








ग्लोबल हंगर इंडेक्स: भुखमरी दूर करने में और पिछड़ा भारत
15 Oct 2018 - Watchdog

विनोद दुआ पर फिल्मकार ने लगाए यौन उत्पीड़न के आरोप
15 Oct 2018 - Watchdog

सबरीमाला में आने वाली महिलाओं के दो टुकड़े कर दिए जाने चाहिए: मलयाली अभिनेता तुलसी
13 Oct 2018 - Watchdog

प्रधानमंत्री मोदी को लिखे जीडी अग्रवाल के वो तीन पत्र, जिसका उन्होंने कोई जवाब नहीं दिया
13 Oct 2018 - Watchdog

प्रधानमंत्री मोदी को लिखे जीडी अग्रवाल के वो तीन पत्र, जिसका उन्होंने कोई जवाब नहीं दिया
13 Oct 2018 - Watchdog

‘मंत्री और पूर्व संपादक एमजे अकबर ने मेरा यौन शोषण किया है’
13 Oct 2018 - Watchdog

पर्यावरणविद प्रोफेसर जीडी अग्रवाल का निधन
12 Oct 2018 - Watchdog

ललित मोहन कोठियाल को दी अंतिम विदाई
09 Oct 2018 - Watchdog

राफेल सौदे के खिलाफ दायर याचिका पर बुधवार को सुनवाई करेगा सुप्रीम कोर्ट
08 Oct 2018 - Watchdog

स्वास्थ्य सुविधाओं के अभाव में इसी तरह मरती रहेंगी पहाड़ की मेधाएं?
07 Oct 2018 - Watchdog

डेस्टीनेशन उत्तराखण्ड, न्यू इण्डिया का परिचायक: नरेंद्र मोदी
07 Oct 2018 - Watchdog

प्रधान न्यायाधीश बने जस्टिस रंजन गोगोई
03 Oct 2018 - Watchdog

देश के पहले लोकपाल के नाम की सिफारिश करने वाली खोज समिति गठित
29 Sep 2018 - Watchdog

असली नक्सलियों के बीच
28 Sep 2018 - Watchdog

इससे पता चलता है कि सरकार सदन की कार्यवाही के प्रति कितनी गैरजिम्मेदारी दिखा रही है ?
28 Sep 2018 - Watchdog

सुप्रीम कोर्ट ने खारिज की एक्टिविस्टों की गिरफ्तारी में एसआईटी जांच की मांग
28 Sep 2018 - Watchdog

आधार एक्ट असंवैधानिक, मनी बिल के रूप में इसे पास करना संविधान के साथ धोखेबाज़ी: जस्टिस चंद्रचूड़
26 Sep 2018 - Watchdog

90 हजार करोड़ की डिफाल्टर आईएल एंड एफएस कंपनी डूबी तो आप भी डूबेंगे
26 Sep 2018 - Watchdog

आधार संवैधानिक रूप से वैध: सुप्रीम कोर्ट
26 Sep 2018 - Watchdog

पहाड़ के एक प्रखर वक्ता का जाना
25 Sep 2018 - Watchdog

देहरादून में बनेगा 300 बेड का जच्चा-बच्चा अस्पताल
24 Sep 2018 - Watchdog

आपराधिक मामलों के आरोप पर उम्मीदवार को अयोग्य घोषित नहीं किया जा सकता: सुप्रीम कोर्ट
25 Sep 2018 - Watchdog

राफेल सौदा भारत का सबसे बड़ा रक्षा घोटाला
25 Sep 2018 - Watchdog

राफेल डील: मोदी सरकार को अब कुतर्क छोड़कर सवालों के जवाब देने चाहिए
22 Sep 2018 - Watchdog

कवि और साहित्यकार विष्णु खरे का निधन
20 Sep 2018 - Watchdog

गाय ऑक्सीजन छोड़ती है, उसे राष्ट्रमाता घोषित किया जाए
20 Sep 2018 - Watchdog

जस्टिस रंजन गोगोई पर राष्ट्रपति की मुहर,चीफ जस्टिस के तौर पर 3 अक्तूबर को लेंगे शपथ
14 Sep 2018 - Watchdog

एनएच-74 घोटोले में दो आईएएस अफसर निलंबित
12 Sep 2018 - Watchdog

उत्तराखंड में नेशनल स्पोर्टस कोड लागू , खेल संघों की बदलेगी तस्वीर
10 Sep 2018 - Watchdog

अधिवक्ता पर दो लाख जुर्माना लगाने के उत्तराखंड हाईकोर्ट के फैसले को सुप्रीम कोर्ट ने स्थगित किया
08 Sep 2018 - Watchdog




असली नक्सलियों के बीच