दिल्ली मार्च के लिए धरतीपुत्रों ने भरी हुंकार

Posted on 29 Nov 2018 -by Watchdog

पुरुषोत्तम शर्मा

2014 के लोकसभा चुनाव में वर्तमान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उनकी पार्टी भाजपा ने देश के किसानों से कर्ज माफी और स्वामीनाथन आयोग की सिफारिश के अनुरूप फसलों का डेढ़ गुना दाम देने का वायदा किया था। यही नहीं उन्होंने देश के लोगों को अच्छे दिन लाने का वायदा भी किया था। पर अपने साढ़े चार साल के शासन में इस सरकार ने न सिर्फ देश के किसानों के साथ खुला धोखा किया बल्कि अपनी कॉरपोरेट परस्ती के कारण आज देश को आर्थिक कंगाली के कागार पर खड़ा कर दिया है। जो मोदी सरकार घाटे की खेती के कारण आत्महत्या को मजबूर देश के किसानों की कर्ज माफी को तैयार नहीं है, वही सरकार देश के सभी संसाधनों पर कब्जा जमा कर अति मुनाफ़ा लूट रहे देश के बड़े पूंजीपतियों का साढ़े तीन लाख करोड़ रुपए का बैंक कर्ज इसी साल बट्टे खाते में डाल चुकी है।

इस सरकार ने अपने एक चहेते पूंजीपति के लिए जहां राफेल सौदे में महाघोटाला कर देश को चूना लगाया है, वहीं इनका खुला संरक्षण पाकर ललित मोदी, विजय माल्या, नीरव मोदी से लेकर मेहुल चौकसी जैसे कई लुटेरे देश के बैंकों का लाखों करोड़ रुपए लेकर देश से भागते रहे। और अब जब इस सरकार की लुटेरी और कारपोरेट परस्त नीतियों के कारण देश वित्तीय कंगाली के कागार पर खड़ा है, तो यह सरकार रिजर्व बैंक के रिजर्व फंड को निकाल कर देश को पूरी तरह कंगाल बनाने पर तुली है।

इस सरकार द्वारा लागू की गयी नोटबंदी व जीएसटी के कारण देश के डेढ़ सौ से ज्यादा लोगों को अपनी जान गवानी पड़ी और करोड़ों लोगों का रोजगार ख़त्म हो गया। आज रिजर्व बैंक के आंकड़े साबित कर रहे हैं कि नोटबंदी की आड़ में भाजपा नेताओं के जरिए सारा काला धन सफ़ेद धन में बदल दिया गया। दिल्ली से लेकर देश भर के कई जिलों तक भाजपा के आलीशान पार्टी कार्यालयों की जमीन और इमारतों के लिए इसी दौर में काला धन जुटाया गया। अब यह सरकार नोटबंदी के दो साल बाद भी उसकी आडिट रिपोर्ट को जारी करने से भाग रही है।

आंकड़े बता रहे हैं कि मोदी के साढ़े चार साल के शासन काल में पचास हजार से ज्यादा किसान आत्महत्या कर चुके हैं। जबकि पिछले दो साल से सरकार की एजेंसी राष्ट्रीय अपराध शाखा ने किसान आत्महत्या से सम्बंधित आंकड़े जारी करना भी बंद कर दिया है। देश की आबादी लगातार बढ़ रही है पर सरकार खेती की जमीन को कारपोरेट के हित में अधिग्रहित कर उसे लगातार कम कर रही है। यह इतनी बड़ी आबादी के देश की खाद्य सुरक्षा को खतरे में डालने का काम कर रही है। झारखंड और छत्तीसगढ़ के साथ ही दिल्ली तक में भूख से लगातार मौतें हो रही हैं, फिर भी मोदी सरकार सार्वजनिक वितरण प्रणाली (पीडीएस सिस्टम) को ख़त्म करने की दिशा में आगे बढ़ती जा रही है। आज हमारा देश अब तक के सबसे बड़े सूखे के सामने खड़ा है।

महाराष्ट्र के मराठवाड़ा से लेकर बिहार, झारखंड और उत्तर प्रदेश तक में अभी से पानी के लिए त्राहि-त्राहि मचनी शुरू हो गयी है। पर इस सरकार ने तीन साल पहले पड़े भयंकर सूखे के बाद भी उससे निपटने के लिए कोई दीर्घकालिक या तात्कालिक कदम नहीं उठाया। गौ रक्षा कानून के बाद गाय बैलों की बिक्री पर लगी रोक और संघी गौरक्षक गुंडों द्वारा मुस्लिम पशुपालकों की देश भर में भीड़ हत्या के बाद आवारा जानवरों की समस्या आज देशव्यापी विकराल समस्या के रूप में हमारे सामने खड़ी है। बुलेट ट्रेन, ईस्टर्न फ्रेट कारीडोर, वेस्टर्न फ्रेट कारीडोर, गेल की गैस पाईप लाइन, राष्ट्रीय राजमार्गों और औद्योगिक गलियारों के साथ ही कोल ब्लाक व अन्य परियोजनाओं के लिए किसानों, आदिवासियों और ग़रीबों की जमीनों का देश भर में बलपूर्वक अधिग्रहण किया जा रहा है।

घाटे की खेती के बाद बड़े पैमाने पर देश भर में हो रही बटाई खेती में लगे बटाईदार किसानों को यह सरकार किसान का दर्जा देने को तैयार नहीं है। इसके चलते इनको सरकार द्वारा दी जा रही सुविधा का लाभ नहीं मिलता है और न उनके उत्पाद की सरकारी खरीद होती है। मनरेगा योजना लगभग ठप्प है और भूमिहीनों, खेत मजदूरों को जमीन देने के बजाए पहले से बसे मजदूरों की बस्ती को उजाड़ा जा रहा है।

मोदी सरकार द्वारा घोषित नया समर्थन मूल्य और पीएम आशा योजना देश के किसानों के साथ खुला धोखा है। खरीफ फसल के लिए मोदी सरकार द्वारा घोषित नई एमएसपी में सिर्फ नकद लागत और पारिवारिक श्रम जोड़ा गया है, जो यूपीए सरकार के समय से ही लागू है। यह स्वामीनाथन आयोग की सिफारिश के अनुसार +C 2 पद्धति (यानी खेत का किराया और बैंक ऋण के ब्याज) को भी कुल लागत में जोड़कर उसका डेढ़ गुना नहीं है। इसी तरह इस सरकार द्वारा घोषित पीएम आशा योजना किसानों के साथ खुला धोखा और पूरी तरह फेल हो चुकी मध्यप्रदेश सरकार की भावान्तर योजना का ही जारी रूप है। ऐसी स्थिति में खुद के साथ हो रहे इस धोखे से देश भर के किसानों में मोदी सरकार के खिलाफ भारी गुस्सा है।

देश के किसानों के गुस्से से घबराकर आज मोदी सरकार एक बार फिर से किसानों की इस एकता को धार्मिक उन्माद और मन्दिर-मसजिद का विवाद पैदा कर तोड़ना चाहती है। पर देश के 210 किसान संगठनों ने एकताबद्ध होकर “अखिल भारतीय किसान संघर्ष समन्वय समिति” के बैनर तले 29-30 नवम्बर को दिल्ली में मार्च और रैली का आयोजन कर मोदी सरकार की इस साजिश को चकनाचूर करने और किसानों के साथ हुई इस धोखाधड़ी का एकताबद्ध होकर जवाब देने का संकल्प लिया है। आपसे अपील है कि आप हजारों की संख्या में इस “किसान मार्च” में शामिल हों।

(पुरुषोत्तम शर्मा अखिल भारतीय किसान महासभा के राष्ट्रीय सचिव हैं।)



Generic placeholder image


शहीद मोहन लाल रतूड़ी व वीरेंद्र राणा की अंतिम यात्रा में उमड़े लोग
18 Feb 2019 - Watchdog

पुलवामा घटना को लेकर दून के आईटी पार्क में हुड़दंग कर रहे छात्र गिरफ्तार
19 Feb 2019 - Watchdog

पुलवामा हमला: जेएनयू छात्रा शहला राशिद पर अफ़वाह फैलाने का आरोप, एफआईआर दर्ज
19 Feb 2019 - Watchdog

हिंदुत्ववादी संगठन पुलवामा का इस्तेमाल मुसलमानों को निशाना बनाने के लिए कर रहे हैं: आयोग
17 Feb 2019 - Watchdog

पुलवामा आतंकी हमले से टला बजट, अब सोमवार को होगा पेश, सदन की शहीदों को श्रद्धांजलि
15 Feb 2019 - Watchdog

पुलवामा आतंकी हमला: सरकार की टीवी चैनलों को भड़काऊ कवरेज से बचने की हिदायत
15 Feb 2019 - Watchdog

रफाल सौदे पर कैग ने संसद में पेश की रिपोर्ट
13 Feb 2019 - Watchdog

रफाल सौदे से दो हफ्ते पहले अनिल अंबानी फ्रांस के रक्षा मंत्री के कार्यालय पहुंचे थे : रिपोर्ट
12 Feb 2019 - Watchdog

नागेश्वर राव अवमानना के दोषी, कार्यवाही पूरी होने तक कोर्ट में बैठने की सज़ा
12 Feb 2019 - Watchdog

अवैध शराब के कारोबार के खिलाफ इसी सत्र में विधेयक लाएगी सरकार
11 Feb 2019 - Watchdog

राज्यपाल का अभिभाषण , कांग्रेस का हंगामा, वॉकआउट
11 Feb 2019 - Watchdog

किसके लिए राफेल डील में डीलर और कमीशनखोर पर मेहरबानी की गई
11 Feb 2019 - Watchdog

मोदी ने रफाल सौदे पर दस्तख़त करने से पहले हटाए थे भ्रष्टाचार-रोधी प्रावधान: रिपोर्ट
11 Feb 2019 - Watchdog

मायावती को मूर्तियों पर खर्च किया पैसा वापस करना होगा : सुप्रीम कोर्ट
08 Feb 2019 - Watchdog

रफाल सौदे में पीएमओ ने दिया था दखल, रक्षा मंत्रालय ने जताई थी आपत्ति: मीडिया रिपोर्ट
08 Feb 2019 - Watchdog

जहरीली शराब पीने से 14 लोगों की मौत, 13 आबकारी अधिकारी निलंबित
08 Feb 2019 - Watchdog

उत्तराखण्ड में आर्थिक रूप से कमजोर वर्गों के लिये दस प्रतिशत आरक्षण लागू
07 Feb 2019 - Watchdog

राज्य कैबिनेट की बैठक में 15 प्रस्तावों पर लगी मुहर
07 Feb 2019 - Watchdog

बिहार बालिका गृह: सुप्रीम कोर्ट की राज्य सरकार को फटकार
07 Feb 2019 - Watchdog

अंबानी की आहट और रिटेल ई-कामर्स की दुनिया में घबराहट
06 Feb 2019 - Watchdog

नेपाल में अब बिना वर्क परमिट के काम नहीं कर सकेंगे भारतीय
06 Feb 2019 - Watchdog

महात्मा गांधी के पुतले को गोली मारने वाली हिंदू महासभा की नेता पूजा पांडेय गिरफ़्तार
06 Feb 2019 - Watchdog

बड़ा फेरबदल-उन्नीस आईएएस समेत 21 अफसरों के विभाग बदले
05 Feb 2019 - Watchdog

सुप्रीम कोर्ट ने कोलकाता पुलिस कमिश्नर को सीबीआई के समक्ष पेश होने को कहा, गिरफ्तारी पर रोक
05 Feb 2019 - Watchdog

मोदी सरकार ने अपना वादा पूरा नहीं किया तो अपना पद्मभूषण लौटा दूंगा: अन्ना हजारे
03 Feb 2019 - Watchdog

जस्टिस मार्कंडेय काटजू के सीजेआई रंजन गोगोई से चार सवाल
04 Feb 2019 - Watchdog

सुप्रीम कोर्ट पहुंचा पश्चिम बंगाल सरकार-सीबीआई विवाद, मंगलवार को होगी सुनवाई
04 Feb 2019 - Watchdog

सवर्ण गरीबों को दस फीसद आरक्षण के लिए अध्यादेश
02 Feb 2019 - Watchdog

अनिल अंबानी की रिलायंस कम्युनिकेशंस ने लगाई दिवालिया घोषित करने की गुहार
02 Feb 2019 - Watchdog

कोर्ट ने सामाजिक कार्यकर्ता आनंद तेलतुम्बड़े की गिरफ़्तारी को ग़ैरक़ानूनी कहा, रिहा करने का आदेश
02 Feb 2019 - Watchdog


दिल्ली मार्च के लिए धरतीपुत्रों ने भरी हुंकार