चुनाव आयोग ने सुप्रीम कोर्ट में कहा, इलेक्टोरल बॉन्ड से राजनीतिक चंदे की पारदर्शिता पर खतरा है

Posted on 28 Mar 2019 -by Watchdog

नई दिल्ली: मोदी सरकार से असहमत होते हुए चुनाव आयोग ने सुप्रीम कोर्ट को बताया है कि ‘इलेक्टोरल बॉन्ड्स स्कीम’ का राजनीतिक चंदे में पारदर्शिता पर गंभीर प्रभाव पड़ता है.

इलेक्टोरल बॉन्ड योजना को चुनौती देने वाली एक जनहित याचिका के मामले की सुनवाई के दौरान बीते बुधवार को चुनाव आयोग ने सुप्रीम कोर्ट में जवाबी हलफनामे दायर किया और इससे खुलासा हुआ है कि आयोग ने मई 2017 में ही इस मामले को लेकर चिंता व्यक्त की थी और सरकार को पत्र लिखा था.

सुप्रीम कोर्ट के सामने दायर हलफनामे में, आयोग ने कहा कि इलेक्टोरल बॉन्ड योजना और कॉरपोरेट फंडिंग को असीमित करने से राजनीतिक दलों के पारदर्शिता/ राजनीतिक दलों को मिलने वाले चंदे के पारदर्शिता पहलू पर गंभीर प्रभाव पड़ेगा.

‘विदेशी योगदान नियमन कानून‘ में संशोधन के केंद्र के फैसले पर, चुनाव आयोग ने कहा कि इससे भारत में राजनीतिक दलों को अनियंत्रित विदेशी फंडिंग की अनुमति मिलेगी और इससे भारतीय नीतियां विदेशी कंपनियों से प्रभावित हो सकती हैं.

सुप्रीम कोर्ट इस समय गैर-सरकारी संगठनों और भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (मार्क्सवादी) द्वारा दायर कई याचिकाओं पर सुनवाई करने की प्रक्रिया में है. याचिकाकर्ताओं ने राजनैतिक दलों को मिलने वाले चंदे संबंधित कानूनों में मोदी सरकार द्वारा किए गए संशोधन की वैधता को चुनौती दी है.

इस मामले की अगली सुनवाई दो अप्रैल 2019 को होगी.

आयोग ने पहला पत्र 15 मार्च, 2017 को वित्त मंत्री अरुण जेटली द्वारा चुनावी बॉन्ड योजना की घोषणा के एक महीने बाद लिखा था. इसमें आयोग ने आयकर अधिनियम, 1961 और जनप्रतिनिधित्व अधिनियम, 1951 में कई बदलाव किए जाने की बात कही थी.

इसके बाद 26 मई, 2017 को जारी दूसरे पत्र में कहा गया है कि चुनावों की कॉर्पोरेट फंडिंग को साफ-सुथरा करने के मोदी सरकार के प्रयासों का वास्तव में पारदर्शिता पर गंभीर और नकारात्मक प्रभाव पड़ेगा.

इलेक्टोरल बॉन्ड जारी करने पर, आयोग ने उल्लेख किया कि किसी राजनीतिक दल को इलेक्टोरल बॉन्ड के माध्यम से मिलने वाला कोई भी चंदा जनप्रतिनिधित्व अधिनियम, 1951 की धारा 29सी के तहत निर्धारित योगदान रिपोर्ट के तहत रिपोर्ट करने के दायरे से बाहर कर दिया गया है.

आयोग ने आगे लिखा, ‘ऐसी स्थिति में जहां इलेक्टोरल बॉन्ड के माध्यम से प्राप्त चंदे को रिपोर्ट नहीं किया जाता है तब राजनीतिक दलों की योगदान रिपोर्टों के अनुसार, यह पता नहीं लगाया जा सकता है कि क्या राजनीतिक दल ने जन प्रतिनिधित्व के धारा 29-बी के तहत प्रावधानों के उल्लंघन में कोई दान लिया है या नहीं. जन प्रतिनिधित्व अधिनियम, 1951 राजनीतिक दलों को सरकारी कंपनियों और विदेशी स्रोतों से चंदा लेने से रोकता है.’

कॉरपोरेट फंडिंग की सीमा को हटाने वाली कंपनी अधिनियम में किए गए संशोधनों पर, चुनाव आयोग ने चेतावनी दी कि इससे राजनीतिक दलों को चंदा देने के एकमात्र उद्देश्य के लिए शेल कंपनियों के स्थापित होने की संभावना खुलेगी, जिनका कोई अन्य व्यवसाय नहीं होग.

मोदी सरकार की इलेक्टोरल बॉन्ड योजना जनवरी 2018 से लागू हुई थी और अक्टूबर 2018 तक इसके जरिए पार्टियों को चंदे के रूप में 600 करोड़ रुपये से अधिक की राशि मिली है. विभिन्न मीडिया रिपोर्टों में कहा गया है कि सत्तारूढ़ भाजपा इस योजना का सबसे बड़ी लाभार्थी है.

उदाहरण के लिए, मार्च 2018 तक खरीदे गए 220 करोड़ रुपये के इलेक्टोरल बॉन्ड में से 210 करोड़ रुपये दक्षिणपंथी भाजपा के पास गए हैं.



Generic placeholder image


मोदी के हेलीकॉप्टर की तलाशी लेने वाला चुनाव अधिकारी निलंबित
18 Apr 2019 - Watchdog

साध्वी प्रज्ञा को प्रत्याशी बना भाजपा देखना चाहती है कि हिंदुओं को कितना नीचे घसीटा जा सकता है
18 Apr 2019 - Watchdog

मोदी पर चुनावी हलफनामे में संपत्ति की जानकारी छिपाने का आरोप, सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर
16 Apr 2019 - Watchdog

इसे चुनाव आयोग की लाचारी कहा जाए या मक्कारी?
16 Apr 2019 - Watchdog

रफाल सौदे के बाद फ्रांस सरकार ने अनिल अंबानी के 1100 करोड़ रुपये के टैक्स माफ़ किए: रिपोर्ट
13 Apr 2019 - Watchdog

पूर्व सेनाध्यक्षों ने लिखा राष्ट्रपति को पत्र, कहा-सेना के इस्तेमाल से बाज आने का राजनीतिक दलों को दें निर्देश
12 Apr 2019 - Watchdog

चुनावी बॉन्ड के ज़रिये मिले चंदे की जानकारी चुनाव आयोग को दें सभी राजनीतिक दल: सुप्रीम कोर्ट
12 Apr 2019 - Watchdog

सुप्रीम कोर्ट द्वारा क्लीन चिट वापस लेने के बाद मोदीजी का खेल खत्म!
10 Apr 2019 - Watchdog

राफेल पर केंद्र को बड़ा झटका, सुप्रीम कोर्ट ने कहा- लीक दस्तावेजों को नहीं किया जा सकता है खारिज
10 Apr 2019 - Watchdog

जुमले में बदलने के लिए अभिशप्त है बीजेपी का नया घोषणा पत्र
09 Apr 2019 - Watchdog

अब हर विधानसभा सीट के पांच मतदान केंद्रों की ईवीएम के नतीज़ों का वीवीपैट से मिलान होगा
08 Apr 2019 - Watchdog

इलेक्टोरल बॉन्ड ने ‘क्रोनी कैपिटलिज़्म’ को वैध बना दिया: पूर्व मुख्य चुनाव आयुक्त
08 Apr 2019 - Watchdog

600 से अधिक कलाकारों ने की भाजपा को वोट न देने की अपील
06 Apr 2019 - Watchdog

चुनाव आयोग ने ‘मोदीजी की सेना’ बयान पर योगी आदित्यनाथ को आचार संहिता के उल्लंघन का दोषी पाया
06 Apr 2019 - Watchdog

भारत द्वारा पाकिस्तान का एफ-16 विमान गिराने का दावा ग़लत
05 Apr 2019 - Watchdog

कांग्रेस का घोषणापत्र जारी कर राहुल गांधी ने दिया नारा- गरीबी पर वार, 72 हजार
02 Apr 2019 - Watchdog

नफ़रत की राजनीति के ख़िलाफ़ 200 से अधिक लेखकों ने वोट करने की अपील की
02 Apr 2019 - Watchdog

भारत के मिशन शक्ति परीक्षण से अंतरिक्ष में फैला मलबा, अंतरिक्ष स्टेशन को खतरा बढ़ा: नासा
02 Apr 2019 - Watchdog

चुनाव से ठीक पहले फेसबुक ने कांग्रेस से जुड़े 687 अकाउंट-पेज हटाए
01 Apr 2019 - Watchdog

लोकसभा चुनाव : योगी आदित्यनाथ की रैली में दादरी हत्याकांड का आरोपित सबसे आगे बैठा दिखा
01 Apr 2019 - Watchdog

शिवसेना नेता राउत ने की ईवीएम से छेड़छाड़ की कीमत पर भी कन्हैया को हराने की मांग
01 Apr 2019 - Watchdog

भारत बंद समाज बनता जा रहा है, सत्ता प्रतिष्ठान हर चीज को नियंत्रित कर रहा है : महबूबा मुफ्ती
31 Mar 2019 - Watchdog

वाराणसी में मोदी के खिलाफ चुनाव लड़ेंगे किसान और जवान, ये मोदी की नैतिक हार है
31 Mar 2019 - Watchdog

अन्तर्राष्ट्रीय मंचों पर किस मुंह से भारत सरकार आतंक विरोधी ललकार उठाएगी?
30 Mar 2019 - Watchdog

भारतीय मिसाइल ने मार गिराया था अपना हेलीकॉप्टर !
30 Mar 2019 - Watchdog

आरएसएस पर प्रतिबंध संबंधी दस्तावेज़ ‘गायब’
29 Mar 2019 - Watchdog

समझौता ब्लास्ट मामले में अदालत ने की एनआईए की खिंचाई, कहा-एजेंसी ने छुपाए सबसे बेहतर सबूत
29 Mar 2019 - Watchdog

चुनाव आयोग ने सुप्रीम कोर्ट में कहा, इलेक्टोरल बॉन्ड से राजनीतिक चंदे की पारदर्शिता पर खतरा है
28 Mar 2019 - Watchdog

पुलिस ने अर्थशास्त्री ज्यां द्रेज़ को हिरासत में लिया, रिहा किया
28 Mar 2019 - Watchdog

एंटी सेटेलाइट मिसाइल का परीक्षण
27 Mar 2019 - Watchdog


चुनाव आयोग ने सुप्रीम कोर्ट में कहा, इलेक्टोरल बॉन्ड से राजनीतिक चंदे की पारदर्शिता पर खतरा है