चुनाव आयोग ने सुप्रीम कोर्ट में कहा, इलेक्टोरल बॉन्ड से राजनीतिक चंदे की पारदर्शिता पर खतरा है

Posted on 28 Mar 2019 -by Watchdog

नई दिल्ली: मोदी सरकार से असहमत होते हुए चुनाव आयोग ने सुप्रीम कोर्ट को बताया है कि ‘इलेक्टोरल बॉन्ड्स स्कीम’ का राजनीतिक चंदे में पारदर्शिता पर गंभीर प्रभाव पड़ता है.

इलेक्टोरल बॉन्ड योजना को चुनौती देने वाली एक जनहित याचिका के मामले की सुनवाई के दौरान बीते बुधवार को चुनाव आयोग ने सुप्रीम कोर्ट में जवाबी हलफनामे दायर किया और इससे खुलासा हुआ है कि आयोग ने मई 2017 में ही इस मामले को लेकर चिंता व्यक्त की थी और सरकार को पत्र लिखा था.

सुप्रीम कोर्ट के सामने दायर हलफनामे में, आयोग ने कहा कि इलेक्टोरल बॉन्ड योजना और कॉरपोरेट फंडिंग को असीमित करने से राजनीतिक दलों के पारदर्शिता/ राजनीतिक दलों को मिलने वाले चंदे के पारदर्शिता पहलू पर गंभीर प्रभाव पड़ेगा.

‘विदेशी योगदान नियमन कानून‘ में संशोधन के केंद्र के फैसले पर, चुनाव आयोग ने कहा कि इससे भारत में राजनीतिक दलों को अनियंत्रित विदेशी फंडिंग की अनुमति मिलेगी और इससे भारतीय नीतियां विदेशी कंपनियों से प्रभावित हो सकती हैं.

सुप्रीम कोर्ट इस समय गैर-सरकारी संगठनों और भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (मार्क्सवादी) द्वारा दायर कई याचिकाओं पर सुनवाई करने की प्रक्रिया में है. याचिकाकर्ताओं ने राजनैतिक दलों को मिलने वाले चंदे संबंधित कानूनों में मोदी सरकार द्वारा किए गए संशोधन की वैधता को चुनौती दी है.

इस मामले की अगली सुनवाई दो अप्रैल 2019 को होगी.

आयोग ने पहला पत्र 15 मार्च, 2017 को वित्त मंत्री अरुण जेटली द्वारा चुनावी बॉन्ड योजना की घोषणा के एक महीने बाद लिखा था. इसमें आयोग ने आयकर अधिनियम, 1961 और जनप्रतिनिधित्व अधिनियम, 1951 में कई बदलाव किए जाने की बात कही थी.

इसके बाद 26 मई, 2017 को जारी दूसरे पत्र में कहा गया है कि चुनावों की कॉर्पोरेट फंडिंग को साफ-सुथरा करने के मोदी सरकार के प्रयासों का वास्तव में पारदर्शिता पर गंभीर और नकारात्मक प्रभाव पड़ेगा.

इलेक्टोरल बॉन्ड जारी करने पर, आयोग ने उल्लेख किया कि किसी राजनीतिक दल को इलेक्टोरल बॉन्ड के माध्यम से मिलने वाला कोई भी चंदा जनप्रतिनिधित्व अधिनियम, 1951 की धारा 29सी के तहत निर्धारित योगदान रिपोर्ट के तहत रिपोर्ट करने के दायरे से बाहर कर दिया गया है.

आयोग ने आगे लिखा, ‘ऐसी स्थिति में जहां इलेक्टोरल बॉन्ड के माध्यम से प्राप्त चंदे को रिपोर्ट नहीं किया जाता है तब राजनीतिक दलों की योगदान रिपोर्टों के अनुसार, यह पता नहीं लगाया जा सकता है कि क्या राजनीतिक दल ने जन प्रतिनिधित्व के धारा 29-बी के तहत प्रावधानों के उल्लंघन में कोई दान लिया है या नहीं. जन प्रतिनिधित्व अधिनियम, 1951 राजनीतिक दलों को सरकारी कंपनियों और विदेशी स्रोतों से चंदा लेने से रोकता है.’

कॉरपोरेट फंडिंग की सीमा को हटाने वाली कंपनी अधिनियम में किए गए संशोधनों पर, चुनाव आयोग ने चेतावनी दी कि इससे राजनीतिक दलों को चंदा देने के एकमात्र उद्देश्य के लिए शेल कंपनियों के स्थापित होने की संभावना खुलेगी, जिनका कोई अन्य व्यवसाय नहीं होग.

मोदी सरकार की इलेक्टोरल बॉन्ड योजना जनवरी 2018 से लागू हुई थी और अक्टूबर 2018 तक इसके जरिए पार्टियों को चंदे के रूप में 600 करोड़ रुपये से अधिक की राशि मिली है. विभिन्न मीडिया रिपोर्टों में कहा गया है कि सत्तारूढ़ भाजपा इस योजना का सबसे बड़ी लाभार्थी है.

उदाहरण के लिए, मार्च 2018 तक खरीदे गए 220 करोड़ रुपये के इलेक्टोरल बॉन्ड में से 210 करोड़ रुपये दक्षिणपंथी भाजपा के पास गए हैं.



Generic placeholder image


विवादास्पद नागरिकता संशोधन विधेयक लोकसभा में पेश
09 Dec 2019 - Watchdog

जेएनयू छात्रों के मार्च पर फिर बरसीं पुलिस की लाठियां, कई छात्र गंभीर रूप से घायल
09 Dec 2019 - Watchdog

कालापानी को लेकर भारत के नेपाल से बिगड़ते सम्बंध
07 Dec 2019 - Watchdog

संविधान विरोधी नागरिकता बिल देश को बांटने
05 Dec 2019 - Watchdog

हरीश रावत का " उपवास " गॉधीवाद का भी घोर अपमान है
05 Dec 2019 - Watchdog

सत्ता की बौखलाहट का शिकार हुए पत्रकार शिव प्रसाद सेमवाल?
27 Nov 2019 - Watchdog

सुप्रीम कोर्ट का फैसला मुसलमानों के लिए बड़ी जीत है
10 Nov 2019 - Watchdog

अयोध्या पर सुप्रीम कोर्ट का फैसला समझना मेरे लिए मुश्किल: सुप्रीम कोर्ट के रिटायर्ड जज
10 Nov 2019 - Watchdog

पुनरावलोकन : हिंसक समय में गांधी
02 Oct 2019 - Watchdog

भारत में अगले दो दशक बहुत अशांत और खूनी होंगे, जस्टिस काटजू
02 Oct 2019 - Watchdog

आरबीआई गवर्नर ने भी कहा - मंदी गहरा रही है
22 Aug 2019 - Watchdog

कश्मीर में नेताओं की गिरफ़्तारी पर डीएमके व अन्य विपक्षी पार्टियों ने जंतर मंतर पर किया विरोध प्रदर्शन
22 Aug 2019 - Watchdog

गहराता आर्थिक संकट भारत में फासीवाद की ज़मीन तैयार कर रहा है
16 Aug 2019 - Watchdog

खुली जेल में तब्दील हो गयी है घाटी, कश्मीरियों ने कहा-संविधान की भी इज्जत नहीं बख्शी
16 Aug 2019 - Watchdog

कश्मीर की जनता के समर्थन में प्रदर्शन को रोकने के लिए लखनऊ में रिहाई मंच के कई नेता हाउस अरेस्ट
16 Aug 2019 - Watchdog

जम्मू-कश्मीर: दलित आरक्षण पर मोदी-शाह ने बोला सफ़ेद झूठ, सच्चाई जानकर आप दंग रह जाएंगे
12 Aug 2019 - Watchdog

अनुच्छेद 370 खात्मे के खिलाफ नेशनल कांफ्रेंस ने खटखटाया सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा
12 Aug 2019 - Watchdog

भारत अब किसी भी बड़े जनसंहार के लिए बिल्कुल तैयार है ?
11 Aug 2019 - Watchdog

अनुच्छेद-370 खात्मे के खिलाफ कश्मीरियों ने किया विरोध-प्रदर्शन, पैलेट गन फायरिंग में कई घायल
10 Aug 2019 - Watchdog

प्रणय और राधिका रॉय को विदेश जाने से रोका गया, एनडीटीवी ने कहा- मीडिया को डराने की कोशिश
10 Aug 2019 - Watchdog

भारत को हिंदू राष्ट्र बनाने का आरएसएस का सपना पूरा होने वाला है
09 Aug 2019 - Watchdog

आर्टिकल 370 : सरकार के कदम का पूर्वोत्तर में क्यों विरोध हो रहा है ? ये गोदी मीडिया नहीं बताएगा
08 Aug 2019 - Watchdog

आंबेडकर को लेकर संघ फैला रहा है झूठ, अनुच्छेद 370 के खिलाफ नहीं थे बाबा साहेब
08 Aug 2019 - Watchdog

कश्मीर और इतिहास के साथ क्यों धोखाधड़ी है धारा 370 का खात्मा
06 Aug 2019 - Watchdog

कश्मीर और इतिहास के साथ क्यों धोखाधड़ी है धारा 370 का खात्मा
06 Aug 2019 - Watchdog

जम्मू कश्मीर में महबूबा, उमर सहित कई नेता गिरफ़्तार
06 Aug 2019 - Watchdog

ताले में बंद कश्मीर की कोई ख़बर नहीं, पर जश्न में डूबे शेष भारत को इससे मतलब नहीं
06 Aug 2019 - Watchdog

कश्मीर से धारा 370 खत्म, लद्दाख और जम्मू कश्मीर बने अलग-अलग केंद्रशासित प्रदेश
05 Aug 2019 - Watchdog

कश्मीर को भारत में मिलाने का नहीं, बल्कि उससे अलग करने का है यह निर्णय
05 Aug 2019 - Watchdog

मजदूरी करती रहें महिलायें इसलिए निकाल दिया तकरीबन 5 हजार का गर्भाशय
20 Jun 2019 - Watchdog



चुनाव आयोग ने सुप्रीम कोर्ट में कहा, इलेक्टोरल बॉन्ड से राजनीतिक चंदे की पारदर्शिता पर खतरा है