90 हजार करोड़ की डिफाल्टर आईएल एंड एफएस कंपनी डूबी तो आप भी डूबेंगे

Posted on 26 Sep 2018 -by Watchdog

रवीश कुमार

आईएल एंड एफएस (इंफ्रास्ट्रक्चर लीजिंग एंड फाइनेंशियल सर्विसेज) का नाम बहुत लोगों ने नहीं सुना होगा. यह एक सरकारी क्षेत्र की कंपनी है जिसकी 40 सहायक कंपनियां हैं. इसे नॉन बैंकिंग फाइनेंस कंपनी की श्रेणी में रखा जाता है. जो बैंकों से लोन लेती हैं. जिसमें कंपनियां निवेश करती हैं और आम जनता जिसके शेयर ख़रीदती हैं.

इस कंपनी को कई रेटिंग एजेंसियों से अति सुरक्षित दर्जा हासिल है. ‘एए प्लस’ की रेटिंग हासिल है. यह कंपनी बैंकों से लोन लेती है. लोन के लिए संपत्ति गिरवी नहीं रखती है. काग़ज़ पर गारंटी दी जाती है कि लोन चुका देंगे. चूंकि इसके पीछे भारत सरकार होती है इसलिए इसकी गारंटी पर बाज़ार को भरोसा होता है.

मगर एक हफ्ते के भीतर इसकी रेटिंग को ‘एए प्लस’ से घटाकर कूड़ा करकट कर दिया गया है. अंग्रेज़ी में इसे जंक स्टेटस कहते हैं. अब यह कंपनी जंक यानी कबाड़ हो चुकी है. जो कंपनी 90,000 करोड़ लोन डिफाल्ट करने जा रही हो वो कबाड़ नहीं होगी तो क्या होगी.

ज़ाहिर है इसमें जिनका पैसा लगा है वो भी कबाड़ हो जाएंगे. प्रोविडेंट फंड और पेंशन फंड का पैसा लगा है. यह आम लोगों की मेहनत की कमाई का पैसा है. डूब गया तो सब डूबेंगे. इसमें म्युचुअल फंड कंपनियां भी निवेश करती हैं. काग़ज़ पर लिखे वचननामे पर बैंकों ने आईएल एंड एफएस और उसकी सहायक कंपनियों को लोन दिए हैं.

अब वो काग़ज़ रद्दी का टुकड़ा भर है. इस 27 अगस्त से जब यह ग़ैर बैंकिंग वित्तीय कंपनी तय समय पर लोन नहीं चुका पाई, डेडलाइन मिस करने लगी तब शेयर मार्केट को सांप सूंघ गया. 15 सितंबर से 24 सितंबर के बीच सेंसेक्स 1785 अंक गिर गया. नॉन बैंकिंग वित्तीय कंपनियों के शेयर धड़ाम-बड़ाम गिरने लगे.

स्माल इंडस्ट्री डेवलपमेंट बैंक आॅफ इंडिया (सिडबी) ने आईएल एंड एफएस और उसकी सहायक कंपनियों को करीब 1000 करोड़ का कर्ज़ दिया है. 450 करोड़ तो सिर्फ आईएल एंड एफएस को दिया है. बाकी 500 करोड़ उसकी दूसरी सहायक कंपनियो को लोन दिया है.

सिडबी ने इन्सॉल्वेंसी कोर्ट में अर्ज़ी लगाई है ताकि इसकी संपत्तियां बेचकर उसका लोन जल्दी चुकता हो. एक डूबती कंपनी के पास कोई अपना पैसा नहीं छोड़ सकता वर्ना सिडबी भी डूबेगी. दूसरी तरफ आईएल एंड एफएस और उसकी 40 सहायक कंपनियों ने पंचाट की शरण ली है.

इस अर्ज़ी के साथ उसे अपने कर्जे के हिसाब-किताब को फिर से संयोजित करने का मौका दिया जाए. इसका मतलब यह हुआ कि जब तक इसका फैसला नहीं आएगा, यह कंपनी अपना लोन नहीं चुकाएगी. तब तक सबकी सांसें अटकी रहेंगी.

अब सरकार ने इस स्थिति से बचाने के लिए भारतीय जीवन बीमा को बुलाया है. आईएल एंड एफएस में सरकार की हिस्सेदारी 40.25 प्रतिशत है. भारतीय जीवन बीमा की हिस्सेदारी 25.34 प्रतिशत है. बाकी भारतीय स्टेट बैंक, सेंट्रल बैंक और यूटीआई की भी हिस्सेदारी है.

हाल के दिनों में जब आईडीबीआई पर नॉन परफॉर्मिंग एसेट्स (एनपीए) का बोझ बढ़ा तो भारतीय जीवन बीमा को बुलाया गया. भारतीय जीवन बीमा निगम के भरोसे कितनी डूबते जहाज़ों को बचाएंगे, किसी दिन अब भारतीय जीवन बीमा के डगमगाने की ख़बर न आ जाए. भारतीय जीवन बीमा निगम के चेयरमैन ने कहा है कि आईएल एंड एफएस को नहीं डूबने देंगे.
आईएल एंड एफएस ग़ैर बैंकिंग वित्तीय सेक्टर की सबसे बड़ी कंपनी है. इस सेक्टर पर बैंकों का लोन 496,400 करोड़ है. अगर यह सेक्टर डूबा तो बैंकों के इतने पैसे धड़ाम से डूब जाएंगे. मार्च 2017 तक लोन 3,91,000 करोड़ था. जब एक साल में लोन 27 प्रतिशत बढ़ा तो भारतीय रिज़र्व बैंक ने रोक लगाई.

सवाल है कि भारतीय रिज़र्व बैंक इतने दिनों से क्या कर रहा था. जबकि भारतीय रिज़र्व बैंक ही इन वित्तीय कंपनियों की निगरानी करता है. म्यूचुअल फंड का 2 लाख 65 हज़ार करोड़ लगा है. हमारे आपके पेंशन और प्रोविडेंड फंड का पैसा भी इसमें लगा है. इतना भारी भरकम कर्ज़दार डूबेगा तो क़र्ज़ देने वाले, निवेश करने वाले सब के सब डूबेंगे.

आईएल एंड एफएस का ज़्यादा पैसा सरकार के इंफ्रास्ट्रक्चर प्रोजेक्ट में लगा है. इसके डूबने से तमाम प्रोजेक्ट अधर में लटक जाएंगे. हुआ यह है कि टोल टैक्स की वसूली का अनुमान ज़्यादा लगाया गया मगर उनकी वसूली उतनी नहीं हो पा रही है. इससे प्रोजेक्ट में पैसा लगाने वाली कंपनियां अपना लोन वापस नहीं कर पा रही हैं. इन्हें लोन देने वाली आईएल एंड एफएस भी अपना लोन वापस नहीं कर पा रही है. हमने इस लेख के लिए बिजनेस स्टैंडर्ड और इंडियन एक्सप्रेस की मदद ली है.

मुझे नहीं पता कि आपके हिंदी अख़बारों में इस कंपनी के बारे में विस्तार से रिपोर्टिंग है या नहीं. पहले पन्ने पर इसे जगह मिली है या नहीं. दुनिया के किसी भी देश में सरकार की कोई कंपनी संकट में आ जाए और उसमें जनता का पैसा लगा हो तो हंगामा मच जाता है. भारत में ऐसी ख़बरों को दबा कर रखा जा रहा है.

तभी बार-बार कह रहा हूं कि हिंदी के अख़बार हिंदी के पाठकों की हत्या कर रहे हैं. सूचना देने के नाम पर इस तरह से सूचना देते हैं कि काम भर हो जाए. बस सरकार नाराज़ न हो जाए लेकिन आम मेहनतकशन लोगों के प्रोविडेंट फंड और पेंशन फंड का पैसा डूबने वाला हो, उसे लेकर चिंता हो तो क्या ऐसी ख़बरों को पहले पन्ने पर मोटे-मोटे अक्षरों में नहीं छापना चाहिए था?

यह लेख मूल रूप से रवीश कुमार के फेसबुक पेज पर प्रकाशित हुआ है. 



Generic placeholder image








छात्रवृत्ति घोटाला पहुंचा हाईकोर्ट, सरकार को 12 दिसंबर को जवाब देने का आदेश
07 Dec 2018 - Watchdog

अब राज्य सरकार चलाएगी सुभारती मेडिकल कॉलेज, SC के आदेश पर सील
07 Dec 2018 - Watchdog

उत्तराखंड में फिल्म ‘केदारनाथ’ पर प्रतिबंध लगा
07 Dec 2018 - Watchdog

आंबेडकर ने हिंदू धर्म क्यों छोड़ा?
07 Dec 2018 - Watchdog

‘मुख्य न्यायाधीश को कोई बाहर से कंट्रोल कर रहा था’
03 Dec 2018 - Watchdog

अशोक और बलबीर: गुजरात दंगों और अयोध्या के दो सबक
03 Dec 2018 - Watchdog

750 किलो प्याज़ बेचने पर मिले महज़ 1064 रुपये, नाराज़ किसान ने पूरा पैसा नरेंद्र मोदी को भेजा
03 Dec 2018 - Watchdog

स्थाई राजधानी को लेकर भाजपा का दोगलापन एक बार फिर से सामने आया है
30 Nov 2018 - Watchdog

दिल्ली मार्च के लिए धरतीपुत्रों ने भरी हुंकार
29 Nov 2018 - Watchdog

मोदी के पास किसानों को देने के लिए अब जुमले भी नहीं!
29 Nov 2018 - Watchdog

अयोध्या: मीडिया 1992 की तरह एक बार फिर सांप्रदायिकता की आग में घी डाल रहा है
25 Nov 2018 - Watchdog

राफेल सौदे को लेकर फ्रांस में उठी जांच की मांग, भ्रष्टाचार का मामला दर्ज
25 Nov 2018 - Watchdog

राकेश अस्थाना के ख़िलाफ़ जांच में दख़ल दे रहे थे अजीत डोभाल
20 Nov 2018 - Watchdog

सीबीआई विवाद: आलोक वर्मा का जवाब कथित तौर पर ‘लीक’ होने से सुप्रीम कोर्ट नाराज, सुनवाई टली
20 Nov 2018 - Watchdog

वरिष्ठ पत्रकार अनूप गैरोला नहीं रहे
19 Nov 2018 - Watchdog

क्या इस देश में अब बहस सिर्फ़ अच्छे हिंदू और बुरे हिंदू के बीच रह गई है?
17 Nov 2018 - Watchdog

गुजरात दंगों में पीएम मोदी को क्लीन चिट के खिलाफ जकिया जाफरी की याचिका पर सुप्रीम कोर्ट करेगा सुनवाई
13 Nov 2018 - Watchdog

नोटबंदी से गरीबों का नुकसान हुआ और सूट-बूट वाले लोगों का फायदा : राहुल गांधी
13 Nov 2018 - Watchdog

अयोध्या ज़मीन विवाद मामले की जल्द सुनवाई के लिए दायर याचिका ख़ारिज
12 Nov 2018 - Watchdog

सीबीआई विवाद: निदेशक आलोक वर्मा मामले की सुनवाई शुक्रवार तक के लिए स्थगित
12 Nov 2018 - Watchdog

देश में बेरोजगारी की दर दो साल के सबसे ऊंचे स्तर पर पहुंची
09 Nov 2018 - Watchdog

नोटबंदी के पहले ही RBI ने निकाल दी थी मोदी के दावे की हवा
09 Nov 2018 - Watchdog

लोकसभा उपचुनाव में उपचुनाव में बीजेपी को तगड़ा झटका
06 Nov 2018 - Watchdog

मोदी सरकार ने मांगे थे 3.6 लाख करोड़ रुपये, आरबीआई ने ठुकराया
06 Nov 2018 - Watchdog

यौन उत्पीड़न के मामले को दबाता " दैनिक जागरण "
04 Nov 2018 - Watchdog

खतरे में तो ‘मीडिया’ है जनाब
04 Nov 2018 - Watchdog

राज्यपाल ने नए मुख्य न्यायाधीश आर रंगनाथन को दिलाई पद की शपथ
04 Nov 2018 - Watchdog

राफेल से भी बड़ा घोटाला है प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना: पी. साईनाथ
04 Nov 2018 - Watchdog

रफाल सौदा : सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र से विमानों की कीमत और खरीद प्रक्रिया की जानकारी मांगी
31 Oct 2018 - Watchdog

अयोध्या विवाद: सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई टली, जनवरी में तय होगी अगली तारीख़
29 Oct 2018 - Watchdog




90 हजार करोड़ की डिफाल्टर आईएल एंड एफएस कंपनी डूबी तो आप भी डूबेंगे