कृषि भूमि की असीमित खरीद में छूट देने वाला कानून को वापस लेंः उपपा

Posted on 20 Dec 2018 -by Watchdog

ल्मोड़ा। पर्वतीय क्षेत्रों में कृषि भूमि की असीमित खरीद की छूट देने वाले काले कानून को तत्काल वापस लिए जाने की मांग को उत्तराखंड परिवर्तन पार्टी ने यहां कलेक्ट्रेट में धरना दिया। 

बुधवार को धरने के दौरान डीएम को दिए गए ज्ञापन में उन्होंने कहा कि बीते 8 दिसंबर को उत्तराखंड विधानसभा में पारित उत्तराखंड प्रदेश जमीदारी विनाश भूमि व्यवसाय अधिनियम 1950 अनूकूलन एवं उपांतरण आदेश 2001 में किए गए संशोधन 2018 को परित करने का घोर विरोध करते हैं। इस कानून के जिरिये सरकार ने कथित औद्योगिक निवेश को बढ़वा देने के नाम पर पूंजीपतियों, माफियाओं को असीमित कृषि भूमि खरीदने की खुली छूट प्रदान करते हुए उन्हें अकृषि करने के झंझट से मुक्त कर दिया है, जो सदियों से यहां रह रहे मूल निवासी समाज को जड़ से उखाड़ कर तितरकृबितर करने का एक सुनियोजित पड़यंत्र है और उत्तराखंड राज्य की अवधारणा के खिलाफ है। उत्तराखंड राज्य आंदोलन के पीछे पर्वतीय, हिमालयी क्षेत्रों की अस्मिता की रक्षा उसकी भौगोलिक, आर्थिक, सामाजिक, सांस्कृतिक परिस्थितियों के अनुरूप स्व शासन द्वारा विकास की अवधारणा को साकार करना मुख्य उद्देश्य था। इसलिए राज्य बनने के बाद यहां की सीमित जमीनों को बचाने के लिए बाहरी लोगों को मात्र 250 वर्ग मीटर भूमि आवासीय प्रयोजन हेतु खरीद की छूट दी गई। लेकिन राजनेताओं, नौकरशाहों, माफियाओं की मिली भगत से राज्य बनने के बाद भी हजारों एकड़ भूमि पर स्वार्थी तत्वों, सत्ता के बरीबियों का कब्जा हो गया हैं। प्राकृतिक संसाधनों जल, जंगल, जमीन की इस लूट के कारण उत्तराखंड के मूल व स्थाई निवासी तेजी से कंगाल हो रहे हैं और हम अपनी ही जमीनों पर धनपतियों द्वारा बनाए गए बंगलों में चैकीदार बनकर गुलामी करने अथवा पलायन को मजबूर हो रहे हैं।

उन्होंने कहा कि शर्म की बात है कि राज्य बनने के बाद सत्ता में बैठे लोगों ने सोचीकृसमझी साजिश से भूमि सुधार, भूमि बंदोबश्त, चैकबंदी जैसे आवश्यक कदम नहीं उठाये। वरन् सत्ता के पिछले दरवाजे से याहं की भूमिहीनों, आपदा पीड़ितों, विस्थापितों का हक मारकर जमीनों की लूट को बढ़ावा दिया गया जो चिंता का विषय है। इसी वर्ष 06 अक्टूबर को कथित इंवैस्टर सम्मिट के एक दिन पहले आपकी सरकार ने अध्यादेश लाकर और अब इसी अध्यादेश को विधानसभा में पारित कर यह साबित कर दिया है कि आपकी डबल इंजन की सरकार की सोच ऐसे प्रापर्टी डीलरों जैसी है, जिन्हें अपने गांव, जन्मभूमि, मातृकृभूमि से कोई भावात्मक सरोकार नही होता। जनता के प्रतिनिधित्व का दावा करने वाले पक्षकृविपक्ष द्वारा बिना जरूरी बहस के ऐसे काले कानून को पारित करने वाले विधायकों के आचरण पर भी यह निर्णय एक बड़ा प्रश्न चिन्ह है।

उत्तराखंड परिवर्तन पार्टी ने मांग की है कि पर्वतीय क्षेत्रों में कृषि भूमि की खरीद के लिए बनाए गए इस काले कानून को तत्काल निरस्त करने एवं उत्तराखंड में हिमांचल प्रदेश की तरह भूकृकानून लागू करने, पर्वतीय क्षेत्रों में तत्काल भूमि बंदोबस्त कर चकबंदी लागू करने, कृषि भूमि पर वास्तविक रूप से करने वाले किसानों के हितों का संरक्षण करने, राज्य बनने के बाद राज्य में जल, जंगल, जमीन पर कानूनी गैर कानूनी रूप से हुए कब्जों, बंदरबांट को लेकर श्वेत पत्र जारी करने की मांग की। साथ ही मांग पूरी न होने पर उत्तराखंड की जनता से मिलकर इस काले कानून को रद्द कराने के लिए व्यापक जन अभियान शुरू करने को बाध्य होंगे। जिसकी जिम्मेदारी सरकार की होगी। ज्ञापन देने वालों व धरने में प्रकाश उनियाल, वंदना कोहली, रंजना सिंह, मनोज कुमार पंत, अंकिता पपनै, कुंदन सिंह भोज, जीवन चंद्र, ईश्वर जोशी, लक्ष्मी देवी, बीना बजाज, देवी लाल साह, रेखा धस्माना, पूरन सिंह मेहरा, चंपा सुयाल, राजू गिरी, आनंदी वर्मा, गोविंद सिंह मेहरा आदि मौजूद थे।



Generic placeholder image


आचार संहिता लागू होने से एक दिन पहले भाजपा को दिल्ली में मिली दो एकड़ ज़मीन
20 Mar 2019 - Watchdog

जस्टिस पिनाकी चंद्र घोष भारत में लोकपाल के पहले अध्यक्ष नियुक्त
20 Mar 2019 - Watchdog

पुण्य प्रसून की ‘सूर्या समाचार’ से छुट्टी!
19 Mar 2019 - Watchdog

नरेंद्र मोदी का ‘मैं भी चौकीदार’ अभियान महज़ पाखंड है
19 Mar 2019 - Watchdog

गोवा के मुख्यमंत्री और पूर्व रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर का निधन
18 Mar 2019 - Watchdog

मोदी की बड़ी रणनीतिक भूल है “मैं भी चौकीदार हूं!”
17 Mar 2019 - Watchdog

जस्टिस घोष होंगे देश के पहले लोकपाल
17 Mar 2019 - Watchdog

IAS छोड़ राजनीति में आए शाह फैसल ने लॉन्च की अपनी पार्टी
17 Mar 2019 - Watchdog

बीजेपी को बड़ा झटका, पूर्व सीएम बीसी खंडूरी के बेटे मनीष खंडूरी कांग्रेस में शामिल
16 Mar 2019 - Watchdog

बच्चों के हर्ष व उल्लास का त्योहार है फूलदेई
15 Mar 2019 - Watchdog

सर्वोच्च न्यायालय का वीवीपैट को लेकर दाखिल 21 विपक्षी दलों की याचिका पर चुनाव आयोग को नोटिस
15 Mar 2019 - Watchdog

मसूद अजहर संबंधी नाकामी भी नेहरू के मत्थे!
15 Mar 2019 - Watchdog

न्यूज़ीलैंडः दो मस्जिदों में गोलीबारी, 40 लोगों की मौत
15 Mar 2019 - Watchdog

मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई के नाम प्रो. शम्सुल इस्लाम का खुला पत्र
13 Mar 2019 - Watchdog

नोटबंदी से पहले आरबीआई ने कहा था, नोट बैन से ख़त्म नहीं होगा काला धन
12 Mar 2019 - Watchdog

गोदी मीडिया का बहिष्कार करे विपक्ष
11 Mar 2019 - Watchdog

देश में आज से आचार संहिता लागू, सभी मतदान केंद्रों पर VVPT का होगा इस्तेमाल
10 Mar 2019 - Watchdog

युद्धोन्मादी अन्धराष्ट्रवाद के ख़िलाफ़ दहाड़कर बोलना होगा ! चुप्पी कायरता है !
10 Mar 2019 - Watchdog

लोकसभा चुनावों में धनबल, हिंसा और नफ़रत का बोलबाला होगा: पूर्व सीईसी
10 Mar 2019 - Watchdog

डोनाल्ड ट्रम्प ने कहा, अमेरिका भारत को व्यापार में तरजीह देने का दर्जा वापस लेगा
05 Mar 2019 - Watchdog

कश्मीरियों पर नहीं बल्कि लखनवी तहजीब पर हमला है!
09 Mar 2019 - Watchdog

बयान से पलटे अटॉर्नी जनरल, कहा- रक्षा मंत्रालय से चोरी नहीं हुए रफाल दस्तावेज़
09 Mar 2019 - Watchdog

राजस्थान में भारतीय वायु सेना का मिग-21 विमान दुर्घटनाग्रस्त
08 Mar 2019 - Watchdog

14 साल के सबसे निचले स्तर पर पहुंची कृषि आय
03 Mar 2019 - Watchdog

बातचीत से सुलझेगा अयोध्या विवाद, सुप्रीम कोर्ट ने मामला मध्यस्थता के लिए सौंपा
08 Mar 2019 - Watchdog

राफेल सौदे में रंगे हाथों पकड़ी गई चौकीदार की चोरी, दर्ज हो एफआईआर: कांग्रेस
06 Mar 2019 - Watchdog

बालाकोट में जैश-ए-मोहम्मद का मदरसा अब भी खड़ा है : रॉयटर्स
06 Mar 2019 - Watchdog

सरकार ने सुप्रीम कोर्ट को बताया, राफेल से जुड़े दस्तावेज चोरी
06 Mar 2019 - Watchdog

भाजपा के दोबारा सत्ता में न आने पर संसद पर हमला कर देगा पाकिस्तान
04 Mar 2019 - Watchdog

देशभक्ति इसे कहते हैं जो Altnews करके दिखाता है
02 Mar 2019 - Watchdog


कृषि भूमि की असीमित खरीद में छूट देने वाला कानून को वापस लेंः उपपा