“मैं दया नहीं मांगूंगा. मैं उदारता की भी अपील नहीं करूंगा ”

Posted on 20 Aug 2020 -by Watchdog

देश भर में प्रशांत भूषण को दोषी ठहराये जाने के खिलाफ़ हो रहे प्रदर्शनों के बीच सुप्रीम कोर्ट ने उन्हें आज उन्हें अपने बयान पर पुनर्विचार के लिए तीन दिन दिये। वहीं तीन दिन का समय दिये जाने को प्रशांत भूषण ने समय की बर्बादी क़रार दिया है। प्रशांत भूषण ने कोर्ट से कहा कि मुझे समय देना कोर्ट के समय की बर्बादी होगी क्योंकि यह मुश्किल है कि मैं अपने बयान बदल लूं। इसके पहले प्रशांत भूषण ने माफी माँगने से साफ़ इंकार करते हुए एक महत्वपूर्ण बयान दिया। उन्होंने कहा-

“कोर्ट द्वारा दोषी ठहराए जाने के फैसले से मैं बहुत दुखी हूं। मैं इस बात को लेकर दुखी हूं कि मुझे पूरी तरह से गलत समझा गया। मैं इस बात से बेहद चकित हूं कि मेरी मंशा का बगैर कोई सबूत दिए कोर्ट अपने निष्कर्ष पर पहुंच गया। मेरा यह मानना है कि संवैधानिक व्यवस्था की रक्षा के लिए किसी भी लोकतंत्र के भीतर खुली आलोचना जरूरी है। संवैधानिक व्यवस्था को बचाने का काम निजी और प्रोफेशनल दोनों स्तर पर होना चाहिए। मेरे ट्वीट उस दिशा में एक छोटा सा प्रयास हैं जिसे मैं अपना सबसे बड़ा कर्तव्य समझता हूं।”

गांधी को कोट करते हुए प्रशांत भूषण ने कहा कि “मैं दया नहीं मांगूंगा। मैं उदारता की भी अपील नहीं करूंगा। मैं पूरी खुशी के साथ उस सजा के लिए खुद को पेश करता हूं जो कोर्ट मुझे देगा।” उन्होंने कहा कि “मेरे ट्वीट एक नागरिक के तौर पर अपना कर्तव्य निभाने का एक प्रामाणिक प्रयास थे। इतिहास के इस मोड़ पर अगर मैं नहीं बोलता तो मैं अपने कर्तव्यों को पूरा करने में नाकाम हो जाता। कोर्ट जो भी जुर्माना देगा उसके लिए मैं तैयार हूं। मांफी मांग कर मैं बेहद तिरस्कृत महसूस करूंगा।”

आज सुनवाई के दौरान अटॉर्नी जनरल के के वेणुगोपाल ने कोर्ट से अपील की है कि प्रशांत भूषण को सजा नहीं दी जाए। इस पर पीठ की अगुवाई कर रहे जस्टिस अरुण मिश्रा ने कहा कि आप प्रशांत भूषण का जवाब देखे बिना ऐसी दलील नहीं दें। जस्टिस अरुण मिश्रा ने कहा कि प्रशांत भूषण के जवाब में आक्रमकता झलकती है, बचाव नहीं। हम इन्हें माफ नहीं कर सकते। इससे गलत संदेश जाएगा। वो हम नहीं देना चाहते।

अटॉर्नी जनरल के.के वेणुगोपाल ने कहा कि उनके पास पांच सुप्रीम कोर्ट के न्यायाधीशों की सूची है, जिन्होंने कहा था कि लोकतंत्र खतरे में है, जो भूषण ने कहा है। अटॉर्नी जनरल ने कहा कि उनके पास उन 9 जजों की लिस्ट है जिन्होंने कहा था कि न्यायपालिका के उच्चतर स्तरों में भ्रष्टाचार है।

इससे पहले कोर्ट ने प्रशांत भूषण से पूछा कि क्या वो अपने कथन पर पुनर्विचार करना चाहते हैं? इसके जवाब में प्रशांत भूषण ने कहा कि ‘मैं इस पर पुनर्विचार नहीं करना चाहता।” तीन दिन का समय दिये जाने को उन्होंने समय की बर्बादी क़रार दिया है। यानी प्रशांत इस मुद्दे पर हर सज़ा भुगतने को तैयार हैं, लेकिन बयान नहीं बदलेंगे।

सुबह केस की सुनवाई के दौरान प्रशांत भूषण के वकील दुष्यंत दवे ने सजा पर बहस टालने की मांग की। उनकी दलील थी कि उन्हें इस मामले पर पुनर्विचार याचिका दायर करना है जिसके लिए तीस दिन का समय दिये जाने का प्रावधान है। उन्होने ये भी कहा कि यही बेंच पुनर्विचार याचिका पर सुनवायी करे, यह जरूरी नहीं है।

वहीं सुप्रीम कोर्ट के रिटायर्ड जस्टिस जोसेफ़ कुरियन ने कहा था कि इस मामले की सुनवायी पांच या सात जजों की पीठ को करना चाहिए। उन्होंने कहा था कि इस मामले की सुनवायी विस्तृत रूप से हो ताकि व्यापक चर्चा और भागीदारी हो सके। इस मामले में दोषी व्यक्ति को अपील के दूसरे माध्यम का अवसर होना चाहिए। उन्होंने कहा था कि सुप्रीम कोर्ट को ‘हर हाल में न्याय करना चाहिए, चाहे आसमान गिर पड़े।’

ज़ाहिर है, सुप्रीम कोर्ट के रुख पर लगातार सवाल उठ रही हैं। पूरे देश में प्रशांत भूषण के पक्ष में प्रदर्शन हो रहे हैं। प्रशांत भूषण को न्यायपालिका के प्रति उनके दो ‘अपमानजनक’ ट्वीट के लिए 14 अगस्त को अदालत की आपराधिक अवमानना का दोषी ठहराया गया था। न्यायालय की अवमानना कानून के तहत अवमानना के दोषी व्यक्ति को छह महीने तक की साधारण कैद या दो हजार रूपए जुर्माना या दोनों की सजा हो सकती है।



Generic placeholder image


मोदी सरकार के लेबर कोड मजदूरों की गुलामी का दस्तावेज़ हैं!
15 Dec 2020 - Watchdog

मोदी का ‘नया भारत’, हमारी संवैधानिक व्यवस्था के अस्तित्व के लिए ही खतरा पैदा कर रहा है
15 Dec 2020 - Watchdog

अन्नदाता को बदनाम करने की जगह कानून वापस ले सरकार
15 Dec 2020 - Watchdog

अरुंधति रॉय को शांति के लिए कोरिया का साहित्यिक ग्रैंड लॉरेट पुरस्कार
23 Nov 2020 - Watchdog

केरल सरकार ने वापस लिया सोशल मीडिया से जुड़ा विवादित अध्यादेश
23 Nov 2020 - Watchdog

केरल सरकार ने वापस लिया सोशल मीडिया से जुड़ा विवादित अध्यादेश
23 Nov 2020 - Watchdog

हाथरस गैंगरेप के खिलाफ देश भर में उबाल
30 Sep 2020 - Watchdog

बाबरी विध्वंस फ़ैसला: वही क़ातिल, वही मुंसिफ, अदालत उसकी
30 Sep 2020 - Watchdog

भगत सिंह के सपनों का भारत बनाम ‘हिन्दू राष्ट्र’
29 Sep 2020 - Watchdog

एमनेस्टी इंटरनेशनल ने भारत में बंद किया अपना काम
29 Sep 2020 - Watchdog

कृषि क़ानून: इंडिया गेट पर फूँका ट्रैक्टर
28 Sep 2020 - Watchdog

भगत सिंह के जन्मदिवस पर आइये अपने उस क्रांतिकारी पुरखे को याद करें
28 Sep 2020 - Watchdog

भारत बंद’ में लाखों किसान सड़कों पर
25 Sep 2020 - Watchdog

भारत बंद’ में लाखों किसान सड़कों पर
25 Sep 2020 - Watchdog

बिहार चुनावः 243 विधानसभा सीटों के लिए तारीखों का एलान, पहले चरण की वोटिंग 28 अक्टूबर को
25 Sep 2020 - Watchdog

प्रशांत भूषण के समर्थन में इलाहाबाद से लेकर देहरादून तक देश के कई शहरों में प्रदर्शन
20 Aug 2020 - Watchdog

“मैं दया नहीं मांगूंगा. मैं उदारता की भी अपील नहीं करूंगा ”
20 Aug 2020 - Watchdog

योगी आदित्यनाथ के भड़काऊ भाषण मामले में याचिकाकर्ता को उम्रकैद की सज़ा
30 Jul 2020 - Watchdog

मीडिया के शोर में राफेल घोटाले की सच्चाई को दफ़्न करने की कोशिश
30 Jul 2020 - Watchdog

जनता की जेब पर डाके का खुला ऐलान है बैंकों और बीमा कंपनियों का निजीकरण
24 Jul 2020 - Watchdog

हम तंगदिल, क्रूर और कमजोर दिमाग के लोगों से शासित हैं : अरुंधति राय
23 Jul 2020 - Watchdog

राहुल गांधी का हमला, 'BJP झूठ फैला रही है' देश को इसकी भारी क़ीमत चुकानी होगी
19 Jul 2020 - Watchdog

‘हाया सोफिया मस्जिद’ में दफ़्न कर दी गयी तुर्की की धर्मनिरपेक्ष सांस्कृतिक विरासत
19 Jul 2020 - Watchdog

मणिपुरः महिला अधिकारी का आरोप, मुख्यमंत्री ने ड्रग तस्कर को छोड़ने के लिए दबाव बनाया
18 Jul 2020 - Watchdog

विधायक खरीदो और विपक्ष की सरकारें गिराओ
18 Jul 2020 - Watchdog

घोषित आपातकाल से ज्यादा भयावह है यह अघोषित आपातकाल
25 Jun 2020 - Watchdog

आपातकाल को भी मात देती मोदी सरकार की तानाशाही
25 Jun 2020 - Watchdog

सफूरा जरगर को दिल्ली हाईकोर्ट से जमानत
23 Jun 2020 - Watchdog

उत्तराखंड के पर्वतीय क्षेत्रों में सरकारी चाय बगान श्रमिकों की दुर्दशा
22 Jun 2020 - Watchdog

मनमोहन की मोदी को नसीहत: “भ्रामक प्रचार, मज़बूत नेतृत्व का विकल्प नहीं!”
22 Jun 2020 - Watchdog



“मैं दया नहीं मांगूंगा. मैं उदारता की भी अपील नहीं करूंगा ”