रफाल सौदे में पीएमओ ने दिया था दखल, रक्षा मंत्रालय ने जताई थी आपत्ति: मीडिया रिपोर्ट

Posted on 08 Feb 2019 -by Watchdog

नई दिल्लीः भारत और फ्रांस के बीच 7.87 अरब यूरो के विवादित रफाल सौदे को लेकर हुई बातचीत में प्रधानमंत्री कार्यालय (पीएमओ) की ओर से समानांतर बातचीत का रक्षा मंत्रालय ने विरोध किया था.

द हिंदू अख़बार ने खुलासा किया है कि रफाल सौदे में पीएमओ ने फ्रांस सरकार से समानांतर बातचीत की थी. अखबार का कहना है कि यह स्पष्ट था कि पीएमओ की ओर से इस तरह की समानांतर बातचीत ने इस सौदे पर रक्षा मंत्रालय और भारतीय वार्ताकार टीम की बातचीत को कमजोर किया.

24 नवंबर, 2015 के रक्षा मंत्रालय के एक पत्र के जरिए इस घटनाक्रम को तत्कालीन रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर के संज्ञान में लाया गया था.

इस पत्र में कहा गया, ‘हमें पीएमओ को सलाह देनी चाहिए कि कोई भी अधिकारी जो इस सौदे के लिए भारत की ओर से वार्ताकार टीम का हिस्सा नहीं है, उसे फ्रांस सरकार के अधिकारियों के साथ समानांतर वार्ता से दूरी बनाए रखनी चाहिए.’

इसमें आगे कहा गया, ‘यदि रक्षा मंत्रालय की ओर से की जा रही बातचीत के नतीजों से पीएमओ संतुष्ट नहीं है तो एक उचित स्तर पर पीएमओ के नेतृत्व में नई वार्ता हो सकती है.’

सुप्रीम कोर्ट में अक्टूबर 2018 में सरकार की ओर दर्ज रिपोर्ट में कहा गया था कि रफाल सौदे को लेकर बातचीत डिप्टी चीफ ऑफ एयर स्टॉफ के नेतृत्व में सात सदस्यीय टीम ने की थी. इस बातचीत में पीएमओ की ओर से किसी भी तरह की भूमिका का कोई उल्लेख नहीं था.

उपलब्ध आधिकारिक दस्तावेजों से पता चलता है कि रक्षा मंत्रालय ने पीएमओ के इस दखल का विरोध किया था. पीएमओ की ओर से लिए गए फैसले रक्षा मंत्रालय और वार्ताकार टीम द्वारा लिए गए फैसलों से अलग थे.
तत्कालीन रक्षा सचिव जी. मोहन कुमार ने लिखा था, ‘रक्षा मंत्री इस पर कृपया ध्यान दें. इस तरह की बातचीत से पीएमओ को बचना चाहिए क्योंकि यह हमारी वार्ता की गंभीरता को कम करता है.’

इस नोट को उप सचिव (एयर-2) एसके शर्मा ने तैयार किया था, जिसे खरीद प्रबंधक व संयुक्त सचिव (एयर) और खरीद प्रक्रिया के महानिदेशक दोनों ने ही समर्थन दिया था.

इस नोट में कहा गया, ‘इस तरह की समानांतर बातचीत हमारे हितों के लिए हानिकारक हो सकती है क्योंकि फ्रांसीसी सरकार अपने फायदे के लिए इसका लाभ उठा सकती है और भारतीय वार्ताकार टीम की स्थिति को कमजोर कर सकती है और इस मामले में बिल्कुल ऐसा ही हुआ है.’

रक्षा मंत्रालय ने उदाहरण का उल्लेख करते हुए कहा कि जनरल रेब ने अपने पत्र में कहा था कि फ्रांस के कूटनीतिक सलाहकार और प्रधानमंत्री के संयुक्त सचिव के बीच जो बातचीत हुई है, उसमें तय हुआ कि कोई बैंक गारंटी नहीं दी जाएगी, ‘लेटर आफ कंफर्ट’ ही काफी है. उसे कंपनी की तरफ से गारंटी के तौर पर माना जाए.

नोट में कहा गया कि यह रक्षा मंत्रालय के रुख से अलग था और भारत की वार्ताकार टीम की ओर से इससे वाकिफ कराया गया था कि किसी भी व्यावसायिक समझौते के लिए सरकारी या बैंक गारंटी होनी चाहिए. पीएमओ की ओर से इस समानांतर बातचीत का रक्षा मंत्रालय से एकदम जुदा रुख का एक और उदाहरण इस सौदे में मध्यस्थ व्यवस्था भी है.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अप्रैल 2015 में पेरिस में इस समझौते का ऐलान किया था. 26 जनवरी 2016 को जब फ्रांस के पूर्व राष्ट्रपति फ्रांस्वा ओलांद गणतंत्र दिवस समारोह में बतौर मुख्य अतिथि भारत आए थे तब इस समझौते पर हस्ताक्षर हुए थे.

रक्षा मंत्रालय के नोट के मुताबिक, पीएमओ की ओर से यह समानांतर बातचीत फ्रांस की वार्ताकार टीम के प्रमुख जनरल स्टीफन रेब के 23 अक्टूबर 2015 को लिखे पत्र से सामने आई.

इस पत्र में पीएमओ में संयुक्त सचिव जावेद अशरफ और फ्रांस के रक्षा मंत्रालय में कूटनीतिक सलाहकार लुइस वेसी की टेलीफोन वार्ता का भी उल्लेख है.

रक्षा मंत्रालय द्वारा जनरल रेब के पत्र को पीएमओ के संज्ञान में लाया गया. इस सौदे के लिए भारत की ओर से वार्ताकार टीम के प्रमुख एयर मार्शल एस.बी.पी.सिन्हा ने प्रधानमंत्री के संयुक्त सचिव अशरफ को भी पत्र लिखा.

अशरफ ने 11 नवंबर 2015 को एयर मार्शल सिन्हा को जवाब देते हुए पुष्टि की कि उन्होंने फ्रांस के रक्षा मंत्री के कूटनीतिक सलाहकार लुइस वेसी से बातचीत की थी.

उन्होंने कहा कि वेसी ने फ्रांस के राष्ट्रपति कार्यालय की सलाह पर मुझसे बात की थी.

गौरतलब है कि ओलांद ने कहा था कि अरबों डॉलर के इस सौदे में भारत सरकार ने अनिल अंबानी की रिलायंस डिफेंस को डास्सो एविएशन का साझीदार बनाने का प्रस्ताव दिया था.

ओलांद के हवाले से कहा गया था, ‘भारत सरकार ने इस समूह का प्रस्ताव दिया था और दासो एविएशन ने (अनिल) अंबानी समूह के साथ बातचीत की. हमारे पास कोई विकल्प नहीं था, हमने वह वार्ताकार लिया जो हमें दिया गया.’

यह पूछे जाने पर कि साझीदार के तौर पर किसने रिलायंस का चयन किया और क्यों? ओलांद ने कहा, ‘इस संदर्भ में हमारी कोई भूमिका नहीं थी.’

द वायर



Generic placeholder image


मोदी के हेलीकॉप्टर की तलाशी लेने वाला चुनाव अधिकारी निलंबित
18 Apr 2019 - Watchdog

साध्वी प्रज्ञा को प्रत्याशी बना भाजपा देखना चाहती है कि हिंदुओं को कितना नीचे घसीटा जा सकता है
18 Apr 2019 - Watchdog

मोदी पर चुनावी हलफनामे में संपत्ति की जानकारी छिपाने का आरोप, सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर
16 Apr 2019 - Watchdog

इसे चुनाव आयोग की लाचारी कहा जाए या मक्कारी?
16 Apr 2019 - Watchdog

रफाल सौदे के बाद फ्रांस सरकार ने अनिल अंबानी के 1100 करोड़ रुपये के टैक्स माफ़ किए: रिपोर्ट
13 Apr 2019 - Watchdog

पूर्व सेनाध्यक्षों ने लिखा राष्ट्रपति को पत्र, कहा-सेना के इस्तेमाल से बाज आने का राजनीतिक दलों को दें निर्देश
12 Apr 2019 - Watchdog

चुनावी बॉन्ड के ज़रिये मिले चंदे की जानकारी चुनाव आयोग को दें सभी राजनीतिक दल: सुप्रीम कोर्ट
12 Apr 2019 - Watchdog

सुप्रीम कोर्ट द्वारा क्लीन चिट वापस लेने के बाद मोदीजी का खेल खत्म!
10 Apr 2019 - Watchdog

राफेल पर केंद्र को बड़ा झटका, सुप्रीम कोर्ट ने कहा- लीक दस्तावेजों को नहीं किया जा सकता है खारिज
10 Apr 2019 - Watchdog

जुमले में बदलने के लिए अभिशप्त है बीजेपी का नया घोषणा पत्र
09 Apr 2019 - Watchdog

अब हर विधानसभा सीट के पांच मतदान केंद्रों की ईवीएम के नतीज़ों का वीवीपैट से मिलान होगा
08 Apr 2019 - Watchdog

इलेक्टोरल बॉन्ड ने ‘क्रोनी कैपिटलिज़्म’ को वैध बना दिया: पूर्व मुख्य चुनाव आयुक्त
08 Apr 2019 - Watchdog

600 से अधिक कलाकारों ने की भाजपा को वोट न देने की अपील
06 Apr 2019 - Watchdog

चुनाव आयोग ने ‘मोदीजी की सेना’ बयान पर योगी आदित्यनाथ को आचार संहिता के उल्लंघन का दोषी पाया
06 Apr 2019 - Watchdog

भारत द्वारा पाकिस्तान का एफ-16 विमान गिराने का दावा ग़लत
05 Apr 2019 - Watchdog

कांग्रेस का घोषणापत्र जारी कर राहुल गांधी ने दिया नारा- गरीबी पर वार, 72 हजार
02 Apr 2019 - Watchdog

नफ़रत की राजनीति के ख़िलाफ़ 200 से अधिक लेखकों ने वोट करने की अपील की
02 Apr 2019 - Watchdog

भारत के मिशन शक्ति परीक्षण से अंतरिक्ष में फैला मलबा, अंतरिक्ष स्टेशन को खतरा बढ़ा: नासा
02 Apr 2019 - Watchdog

चुनाव से ठीक पहले फेसबुक ने कांग्रेस से जुड़े 687 अकाउंट-पेज हटाए
01 Apr 2019 - Watchdog

लोकसभा चुनाव : योगी आदित्यनाथ की रैली में दादरी हत्याकांड का आरोपित सबसे आगे बैठा दिखा
01 Apr 2019 - Watchdog

शिवसेना नेता राउत ने की ईवीएम से छेड़छाड़ की कीमत पर भी कन्हैया को हराने की मांग
01 Apr 2019 - Watchdog

भारत बंद समाज बनता जा रहा है, सत्ता प्रतिष्ठान हर चीज को नियंत्रित कर रहा है : महबूबा मुफ्ती
31 Mar 2019 - Watchdog

वाराणसी में मोदी के खिलाफ चुनाव लड़ेंगे किसान और जवान, ये मोदी की नैतिक हार है
31 Mar 2019 - Watchdog

अन्तर्राष्ट्रीय मंचों पर किस मुंह से भारत सरकार आतंक विरोधी ललकार उठाएगी?
30 Mar 2019 - Watchdog

भारतीय मिसाइल ने मार गिराया था अपना हेलीकॉप्टर !
30 Mar 2019 - Watchdog

आरएसएस पर प्रतिबंध संबंधी दस्तावेज़ ‘गायब’
29 Mar 2019 - Watchdog

समझौता ब्लास्ट मामले में अदालत ने की एनआईए की खिंचाई, कहा-एजेंसी ने छुपाए सबसे बेहतर सबूत
29 Mar 2019 - Watchdog

चुनाव आयोग ने सुप्रीम कोर्ट में कहा, इलेक्टोरल बॉन्ड से राजनीतिक चंदे की पारदर्शिता पर खतरा है
28 Mar 2019 - Watchdog

पुलिस ने अर्थशास्त्री ज्यां द्रेज़ को हिरासत में लिया, रिहा किया
28 Mar 2019 - Watchdog

एंटी सेटेलाइट मिसाइल का परीक्षण
27 Mar 2019 - Watchdog


रफाल सौदे में पीएमओ ने दिया था दखल, रक्षा मंत्रालय ने जताई थी आपत्ति: मीडिया रिपोर्ट