आरएसएस पर प्रतिबंध संबंधी दस्तावेज़ ‘गायब’

Posted on 29 Mar 2019 -by Watchdog

गौरव विवेक भटनागर

नई दिल्लीः राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) पर 1948 में प्रतिबंध लगने और 1949 में प्रतिबंध हटाने संबंधी महत्वपूर्ण फाइलों का कोई पता नहीं है. ज्ञात हो कि महात्मा गांधी की हत्या के बाद 1948 में आरएसएस पर प्रतिबंध लगा दिया गया था.

दिल्ली के एक आरटीआई कार्यकर्ता वेंकटेश नायक को 1949 में आरएसएस पर प्रतिबंध हटाए जाने संबंधी फाइल के संदर्भ के बारे में पता चला. वह उस समय भारतीय राष्ट्रीय अभिलेखागार में रिसर्च कर रहे थे.

फाइल में मौजूद विषय सामग्री के बारे में उत्सुक होकर उन्होंने इसे उपलब्ध कराए जाने के लिए अर्जी दी, लेकिन स्टाफ ने उन्हें बताया कि उन्हें अभी यह फाइल गृह मंत्रालय ने सौंपी नहीं है. उन्हें एक पर्ची दी गई, जिस पर लिखा था, एनटी [NT- Not Transferred] यानी सौंपी नहीं गई है.

नायक ने इसके बाद जुलाई 2018 में एक आरटीआई याचिका दाखिल करते हुए दो फाइलों की प्रति मांगी, जिसमें से एक 1948 में आरएसएस पर प्रतिबंध लगाने संबंधी और दूसरी 1949 में आरएसएस से प्रतिबंध हटाने संबंधी फाइल है.

नायक ने अपनी याचिका में ‘राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघः लिफ्टिंग ऑफ बैन ऑन एक्टिविटीज’ विषय पर फाइल नंबर 1949 एफ.नंबर.1 (40)-डी से जुड़े सभी रिकॉर्डो, दस्तावेजों और कागजातों की जांच की मांग की.

उन्होंने महात्मा गांधी की हत्या के बाद 1948 में आरएसएस पर प्रतिबंध से संबंधित नोट्स सहित सभी रिकॉर्डों, दस्तावेजों और कागजातों की भी जांच की मांग की.

गृह मंत्रालय के केंद्रीय लोक सूचना अधिकारी ने जवाब देते हुए कहा कि यह फाइल उनके पास नहीं है.

गृह मंत्रालय के डिप्टी सेक्रेटरी और सीपीआईओ वीएस राणा ने 6 जुलाई 2018 को कहा था, ‘इसका यहां उल्लेख है कि आपके द्वारा मांगी गई जानकारी सीआईपीओ के पास उपलब्ध नहीं है. आरएसएस पर प्रतिबंध संबंधी ऐसी कोई फाइल, रिकॉर्ड या दस्तावेज उपलब्ध नहीं है.’

नायक ने 28 सितंबर 2018 को एक दूसरी आरटीआई दायर की. इस बार उन्होंने ऑनलाइन माध्यम से इसे दायर किया. उन्होंने पहली आरटीआई याचिका और पीआईओ का जवाब इसके साथ संलग्न किया और रजिस्टर से जानकारी मांगी की किसके अधिकार क्षेत्र में और कब इन फाइलों को नष्ट किया गया. ये फाइलें स्थाई तौर पर रखने के लिए होती है.

नायक ने आधिकारिक रिकॉर्ड से संबंधित पेज या उपयुक्त अंश या किसी भी नाम से रखे गए रजिस्टर की प्रति मांगी, जो आरएसएस पर 1949 की फाइल नष्ट करने के बारे में हो. उन्होंने फाइल को नष्ट करने का आदेश देने वाले अधिकारी के नाम और उसका पद जानने की भी मांग की.

गृह मंत्रालय ने अक्टूबर 2018 को एक बार फिर कहा कि यह जानकारी पीआईओ के पास नहीं है. मंत्रालय ने कहा, ‘इस सेक्शन के पास आरएसएस पर प्रतिबंध लगाने संबंधी फाइलों, रिकॉर्ड और दस्तावेजों की उपलब्धता के बारे में कोई जानकारी नहीं है.’

नायक अब इन गुम हुई फाइलों की जांच का आदेश देने के लिए मुख्य सूचना आयुक्त (सीआईसी) के पास शिकायत दर्ज करने पर विचार कर रहे हैं.

उन्होंने कहा, ‘मुझे अब दोबारा याचिका दायर करनी होगी कयोंकि ये मामले चार महीने से भी अधिक पुराने हैं. ये आमतौर पर पुरानी आरटीआई के आधार पर शिकायतों पर अमल नहीं करते.’

सार्वजनिक तौर पर उपलब्ध होने चाहिए ये कागजात

आरटीआई कार्यकर्ता का कहना है कि उन्होंने आर्काइवल वैल्यू की वजह से अपने दस्तावेजों को आगे बढ़ाने का फैसला किया.

नायक ने कहा, ‘आरएसएस पर प्रतिबंध लगाने और हटाने के जो भी कारण रहे हो, ये आर्काइवल वैल्यू  के रिकॉर्ड हैं. उस समय सरकार ने प्रमुख नीतिगत फैसले लिए. सत्ता में आने वाली किसी भी पार्टी या गठबंधन ने इन दस्तावेजों को सार्वजनिक करने पर ध्यान नहीं दिया.’

उन्होंने कहा कि शोधकर्ताओं की इन दस्तावेजों तक पहुंच थी और उन्होंने निर्णय लेनी वाली इस प्रक्रिया के कुछ हिस्सों पर टिप्पणी भी की थी लेकिन यह पर्याप्त नहीं है. 70 साल बीतने के बाद कम से कम अब तो इन सभी कागजातों को सार्वजनिक किया जाना चाहिए.



Generic placeholder image


मोदी सरकार ने चुपके से बदली पर्यावरण नीति
12 Jun 2019 - Watchdog

पत्रकार का आरोप- रेलवे के पुलिसकर्मियों ने मेरे मुंह में पेशाब की
12 Jun 2019 - Watchdog

सख्त हुआ ये राज्य, रेप करने वालों को लगेंगे नपुंसक बनाने के इंजेक्शन
12 Jun 2019 - Watchdog

आंकड़ों की इस धोखेबाज़ी की बाकायदा जांच होनी चाहिए
11 Jun 2019 - Watchdog

उत्तराखंड के वित्त मंत्री प्रकाश पंत का निधन
06 Jun 2019 - Watchdog

कारगिल युद्ध में भाग लेने वाले ऑफिसर विदेशी घोषित, परिवार समेत नज़रबंदी शिविर भेजा गया
03 Jun 2019 - Watchdog

वाम नेतृत्व को अपना खोल पलटने की ज़रूरत है
03 Jun 2019 - Watchdog

नरेंद्र मोदी ने दूसरी बार प्रधानमंत्री पद की शपथ ली
31 May 2019 - Watchdog

मोदी मंत्रिमंडल: अमित शाह बने गृह मंत्री, राजनाथ रक्षा मंत्री और एस. जयशंकर विदेश मंत्री
31 May 2019 - Watchdog

30 मई को ईवीएम के खिलाफ राष्ट्रीय विरोध दिवस
29 May 2019 - Watchdog

भाजपा को 300 से ज़्यादा सीटें मिलने की संभावना, मोदी ने कहा- एक बार फिर भारत जीता
23 May 2019 - Watchdog

ये सर्वे खतरनाक और किसी बडी साजिश का हिस्सा लगते हैं
20 May 2019 - Watchdog

डर पैदा कर रहे हैं एक्गिट पोल के नतीजे
20 May 2019 - Watchdog

न्यूज़ चैनल भारत के लोकतंत्र को बर्बाद कर चुके हैं
19 May 2019 - Watchdog

प्रधानमंत्री की केदारनाथ यात्रा मतदान प्रभावित करने की साजिश : रवीश कुमार
19 May 2019 - Watchdog

अर्थव्यवस्था मंदी में धकेली जा चुकी है और मोदी नाकटबाजी में मग्न हैं
19 May 2019 - Watchdog

भक्ति के नाम पर अभिनय कर रहे हैं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी
18 May 2019 - Watchdog

चुनाव आयोग में बग़ावत, आयोग की बैठकों में शामिल होने से आयुक्त अशोक ल्वासा का इंकार
18 May 2019 - Watchdog

पहली प्रेस कॉन्फ्रेंस में भी बिना सवाल-जवाब के लौटे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी
17 May 2019 - Watchdog

प्रज्ञा ठाकुर ने नाथूराम गोडसे को बताया 'देशभक्त'
16 May 2019 - Watchdog

प्रज्ञा ठाकुर ने नाथूराम गोडसे को बताया 'देशभक्त'
16 May 2019 - Watchdog

छत्तीसगढ़ की जेलों में बंद चार हजार से ज्यादा आदिवासी जल्द ही होंगे रिहा
15 May 2019 - Watchdog

खराब गोला-बारूद से हो रहे हादसों पर सेना ने जताई चिंता
15 May 2019 - Watchdog

मोदी की रैली के पास पकौड़ा बेचने पर 12 स्टूडेंट हिरासत में लिए
15 May 2019 - Watchdog

भारत माता हो या पिता मगर उसकी डेढ़ करोड़ संतानें वेश्या क्यों हैं ?
14 May 2019 - Watchdog

सुपरफास्ट मोदी: 1988 में अपना पहला ईमेल भेज चुके थे बाल नरेंद्र, जबकि भारत में 1995 में शुरू हुई Email की सुविधा
13 May 2019 - Watchdog

आजाद भारत का पहला आतंकी नाथूराम गोडसे हिंदू था
13 May 2019 - Watchdog

सीजेआई यौन उत्पीड़न मामला: शिकायतकर्ता ने कहा- ‘हम सब खो चुके हैं, अब कुछ नहीं बचा’
13 May 2019 - Watchdog

मोदी सरकार में हुआ 4 लाख करोड़ रुपये का बड़ा घोटाला ?
11 May 2019 - Watchdog

क्या मोदी ने भारत की अर्थव्यवस्था चौपट कर दी है?
11 May 2019 - Watchdog



आरएसएस पर प्रतिबंध संबंधी दस्तावेज़ ‘गायब’