सत्ता की बौखलाहट का शिकार हुए पत्रकार शिव प्रसाद सेमवाल?

Posted on 27 Nov 2019 -by Watchdog

शंकर सिंह भाटिया

देहरादून। मासिक पत्रिका और न्यूज पोर्टल ‘पर्वतजन’ के संपादक पत्रकार शिव प्रसाद सेमवाल ने एक प्रेस वार्ता में लगाए गए आरोपों पर आधारित खबर अपने पोर्टल में प्रकाशित की, जिसके खिलाफ यह खबर थी, उसने पत्रकार पर रंगदारी मांगने का आरोप लगाते हुए सहसपुर थाने में रिपोर्ट दर्ज करा दी। करीब एक महीने दस दिन की कवायद के बाद पुलिस इस प्रकरण के मुख्य आरोपी को तो नहीं पकड़ पाई, लेकिन पत्रकार को गिरफ्तार कर लिया। क्या प्रेस वार्ता में आरोप लगाने वाले व्यक्ति के आरोप प्रकाशित करना अपराध है? जबकि यह खबर तो कई अन्य अखबारों, पोर्टल में भी प्रकाशित हुई है। आरोप लगाया गया है कि पत्रकार ने पोर्टल से खबर हटाने के एवज में रंगदारी मांगी है। रंगदारी मांगने के इस आरोप में कितना दम है?

जिसके खिलाफ खबर प्रकाशित होती है, उसकी तरफ से पत्रकार पर रंगदारी या दलाली मांगने का आरोप लगाना कोई नई बात नहीं है। जिनके खिलाफ खबर होती है, उनकी तरफ से ऐसे आरोप लगते रहे हैं। केवल किसी व्यक्ति द्वारा पत्रकार पर इस तरह के आरोप लगाने भर से पुलिस रिपोर्ट दर्ज कर सकती है? इस तरह के प्रकरण में दो वजहों से रिपोर्ट लिखे जाने की संभावना होती है। या तो संबंधित पत्रकार को फंसाने के लिए पुलिस लालायित हो, पुलिस पर किसी प्रभावशाली व्यक्ति का दबाव हो। या फिर एफआईआर लिखने से पहले या बाद में पुलिस ने पत्रकार के खिलाफ पुख्ता सबूत जुटा लिए हो, जिसमें रंगदारी वसूली के प्रमाण मिले होें।

इस प्रकरण में दोनों मामलों पर गौर करना होगा। जिस तरह पुलिस पत्रकार को जबरन घर से लेकर गई, दिन भर थाने में बैठाए रखा गया और शाम को पत्रकार की गिरफ्तारी दिखाई गई, उससे दाल में कुछ काला लगता है। यह किसी अपराधी को उठाने का पुलिसिया तरीका है। यहां संदेह होता है कि किसी उच्चाधिकारी को खुश करने के लिए पुलिस ने यह काम तो नहीं किया? जब इस प्रदेश में पूरा मीडिया सरकार के सामने नतमस्तक होता दिखाई दे रहा हो, उस दौर में कम से कम उत्तराखंड में पर्वतजन चाहे पत्रिका हो या फिर पोर्टल सत्ता प्रतिष्ठान के खिलाफ तीखी खबरें प्रकाशित करने के लिए जाना जाता है। इन खबरों में सच्चाई कितनी होती है, ब्लैकमेल करने की मंशा कितनी होती है, यह तो जांच का विषय है, लेकिन इन खबरों की वजह से कई अधिकारी और नेता इस गु्रप पर दलाली में संलिप्त होने के आरोप लगाते रहे हैं। इसी वजह से इन पर कई मामले भी विचाराधीन चल रहे हैं। स्वाभाविक है, जिनके खिलाफ चुभती हुई खबरें लगती हैं, जिनका खेल खराब होता है वे, शिव प्रसाद सेमवाल और उनकी टीम से दुश्मनी रखते हैं। संभव है कि ऐसे ही सत्ताधीशों के इशारे पर पुलिस काम कर रही हो?

इस प्रकरण में दूसरा पक्ष है रंगदारी की रिपोर्ट दर्ज करने के एक माह दस दिन बाद पुलिस ने पत्रकार की गिरफ्तारी की है। हालांकि रंगदारी वसूलने की रिपोर्ट तुरंत दर्ज कर ली गई थी। इस दौरान पुलिस पत्रकार के खिलाफ रंगदारी वसूलने के सबूत जुटा रही थी? और पुलिस को इसके सबूत मिले हैं? अक्सर पत्रकारों पर इस तरह के आरोप लगते रहे हैं। पुलिस मिलीभगत या फिर खुन्नस में पत्रकारों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज करती रही है। पत्रकार संगठन इसके खिलाफ आवाज उठाते रहे हैं कि किसी के आरोप लगा देने पर ही पत्रकार के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज नहीं की जानी चाहिए। पहले ऐसे आरोपों की जांच होनी चाहिए। आरोपों के जांच में प्रमाणित होने के बाद ही पत्रकार के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कराई जानी चाहिए। लेकिन यहां तो जांच करने से पहले रिपोर्ट दर्ज की गई है, उसके बाद एक माह दस दिन बाद गिरफ्तारी हुई है। नेता अक्सर पुलिस को निर्देशित करते रहे हैं कि पत्रकारों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज करने से पहले उन पर लगाए जाने वाले आरोपों की जांच होनी चाहिए। तभी उनके खिलाफ कानूनी कार्यवाही की जानी चाहिए। लेकिन इस पर अमल कभी नहीं होता है।

क्या इस प्रकरण में ऐसा हुआ है? पुलिस के पास पुख्ता प्रमाण है कि आरोपी पत्रकार ने रंगदारी मांगी है? यदि इस बात पर सच्चाई है तो पत्रकार के खिलाफ कानूनी कार्यवाही जरूर होनी चाहिए। यदि ऐसा नहीं है तो सत्ता प्रतिष्ठानों पर बैठे अफसरों-नेताओं के ईशारों पर यह कार्यवाही पत्रकार के खिलाफ हुई है तो यह उत्तराखंड में स्वतंत्र प्रेस पर बहुत बड़ा प्रहार है। इसके बहुत गंभीर परिणाम होने वाले हैं। यह कलम का सिर कलम करने की सरकारी कार्यवाही है।

इन सवालों के उत्तर ढूंढे जाने इसलिए जरूरी हैं, क्योंकि यह पत्रकारिता जैसे पेशे के वजूद का सवाल है। लेकिन एक पत्रकार की पुलिसिया अंदाज में गिरफ्तारी पर पत्रकार जगत में कोई खास हलचल नहीं है। ऐसा क्यों है? क्या पत्रकारों ने मान लिया है कि यह वास्तव में रंगदारी वसूली का ही प्रकरण है? दरअसल यह उत्तराखंड के पत्रकार राजनीति को अंदर से झकझोरने वाला घटनाक्रम भी है। एक वकील गलती करता है, लेकिन जब उनके साथी पर कार्यवाही होती है तो सभी उसके साथ खड़े हो जाते हैं। एक पुलिस वाला गलत करता है तो कार्यवाही होने पर सभी पुलिस वाले उसके साथ खड़े हो जाते हैं। हाल ही में दिल्ली में पुलिस वकील संघर्ष में हमने यह सब होते हुए देखा है। यह पहले भी होता रहा है। लेकिन कम से कम उत्तराखंड के पत्रकार ऐसे मामलों में एकजुट नहीं हो सकते।

खासकर उत्तराखंड में पत्रकारों में विखराव की कई वजहें हैं। कुछ कथित बड़े अखबारों तथा चैनलों के पत्रकारों को मुख्य धारा के पत्रकार कहा जाता है। उत्तराखंड की अस्थायी राजधानी में इन मुख्य धारा के पत्रकारों ने प्रेस क्लब पर अवैध कब्जा कर लिया था। बिना कोई कारण बताए प्रेस क्लब के सदस्यों की सदस्यता समाप्त कर दी गई, उसके बाद अपनी सुविधा के अनुसार एक समय सीमा तय कर कुछ को बहाल कर दिया गया। उसके बाद सैकड़ों लोगों को सदस्यता से बाहर कर नए सदस्य बना दिए गए। शासन और जिला प्रशासन ने भी इन पत्रकारों की अवैध कार्यवाही का ही साथ दिया। यह पत्रकारों के बीच विभाजन की स्पष्ट रेखा थी। कथित मुख्य धारा के पत्रकार दूसरों को पत्रकार मानने को ही तैयार नहीं हैं। खासकर सोशल मीडिया से जुड़े पत्रकारों को कोई पत्रकार मानने को तैयार नहीं है। दूसरे पत्रकार संगठन भी इस मामले में आगे आने को तैयार नहीं हैं।

प्रदेश भर से पत्रकारों तथा उनसे जुड़े संगठनों की इस मामले में प्रतिक्रियाएं जरूर आई हैं। उन्होंने पत्रकार की गिरफ्तारी का विरोध किया है। लेकिन पत्रकार की इस तरह से गिररफ्तारी के खिलाफ पत्रकारों की एकजुट हुंकार की अभी अपेक्षाएं बाकी है।

जहां तक शिव प्रसाद सेमवाल का मामला है, उनकी सोशल मीडिया की खबर से यह मामला हुआ है। लेकिन वह केवल आज उपजे सोशल मीडिया के पत्रकार नहीं हैं, बल्कि राज्य गठन के दौर से ही वह मासिक पत्रिका प्रकाशित करते हैं। पिछले दिनों तेजी से उभरे सोशल मीडिया के पत्रकारों को संगठित करने में उनकी काफी सक्रियता देखी गई थी। संभव है कुछ लोगों को उनकी यह सक्रियता नागवार गुजर रही हो।
दुर्भाग्यपूर्ण यह है कि मुख्य धारा का मीडिया चाहे जितना भी अपने को मुख्य धारा का होने का ढिढौरा पीटता रहे, वह सरकारों के पीआर बनकर रह गए हैं। सरकारों से सांठगांठ कर विज्ञापन हड़पने के लिए अब वहां सत्ता प्रतिष्ठान की चुभने वाली खबरों को छिपाने की होड़ सी मची हुई है। राम रहीम का डेरा सच्चा सौदा किस कदर अराजक हो गया था। हरियाणा से लेकर पंजाब सरकार तक उनके सामने नतमस्तक थे। मुख्य धारा के अखबार विज्ञापन पाने के लिए वहां लाइन में खड़े थे। एक छोटे से अखबार के पत्रकार छत्रपति अपनी जान की परवाह किए बिना सच्चाई सामने नहीं लाए होते तो आज रामरहीम जेल में नहीं होते।

इसी साल अगस्त का मामला है, उत्तर प्रदेश के मिर्जापुर जिले में एक पत्रकार पर मिड डे मील में नमक रोटी परोसने का खुलासा करने वाले पत्रकार पर 120बी और 420 जैसी संगीन धाराओं में मुकदमा दर्ज किया गया था। मिर्जापुर के जिलाधिकारी अनुराग पटेल का कुतर्क तो यहां तक था कि प्रिंट मीडिया का पत्रकार फोटो तथा वीडियो कैसे ले सकता है। सच्चाई का खुलाशा करने वाले पत्रकार के खिलाफ इसलिए इतनी गंभीर धाराओं में मुकदमे दर्ज किए गए, उन्हें गिरफ्तार किया गया। हालांकि यह प्रकरण जब पूरे देश में सूर्खियां बना तो उत्तर प्रदेश सरकार जागी। क्या इस प्रकरण में भी उत्तराखंड सरकार आगे आएगी?



Generic placeholder image


प्रशांत भूषण के समर्थन में इलाहाबाद से लेकर देहरादून तक देश के कई शहरों में प्रदर्शन
20 Aug 2020 - Watchdog

“मैं दया नहीं मांगूंगा. मैं उदारता की भी अपील नहीं करूंगा ”
20 Aug 2020 - Watchdog

योगी आदित्यनाथ के भड़काऊ भाषण मामले में याचिकाकर्ता को उम्रकैद की सज़ा
30 Jul 2020 - Watchdog

मीडिया के शोर में राफेल घोटाले की सच्चाई को दफ़्न करने की कोशिश
30 Jul 2020 - Watchdog

जनता की जेब पर डाके का खुला ऐलान है बैंकों और बीमा कंपनियों का निजीकरण
24 Jul 2020 - Watchdog

हम तंगदिल, क्रूर और कमजोर दिमाग के लोगों से शासित हैं : अरुंधति राय
23 Jul 2020 - Watchdog

राहुल गांधी का हमला, 'BJP झूठ फैला रही है' देश को इसकी भारी क़ीमत चुकानी होगी
19 Jul 2020 - Watchdog

‘हाया सोफिया मस्जिद’ में दफ़्न कर दी गयी तुर्की की धर्मनिरपेक्ष सांस्कृतिक विरासत
19 Jul 2020 - Watchdog

मणिपुरः महिला अधिकारी का आरोप, मुख्यमंत्री ने ड्रग तस्कर को छोड़ने के लिए दबाव बनाया
18 Jul 2020 - Watchdog

विधायक खरीदो और विपक्ष की सरकारें गिराओ
18 Jul 2020 - Watchdog

घोषित आपातकाल से ज्यादा भयावह है यह अघोषित आपातकाल
25 Jun 2020 - Watchdog

आपातकाल को भी मात देती मोदी सरकार की तानाशाही
25 Jun 2020 - Watchdog

सफूरा जरगर को दिल्ली हाईकोर्ट से जमानत
23 Jun 2020 - Watchdog

उत्तराखंड के पर्वतीय क्षेत्रों में सरकारी चाय बगान श्रमिकों की दुर्दशा
22 Jun 2020 - Watchdog

मनमोहन की मोदी को नसीहत: “भ्रामक प्रचार, मज़बूत नेतृत्व का विकल्प नहीं!”
22 Jun 2020 - Watchdog

राष्ट्रपति मेडल से सम्मानित पुलिस अधिकारी को आतंकियों के साथ पकड़ा गया
13 Jan 2020 - Watchdog

जेएनयू हिंसा फुटेज सुरक्षित रखने की याचिका पर हाईकोर्ट का वॉट्सऐप, गूगल, एप्पल, पुलिस को नोटिस
13 Jan 2020 - Watchdog

जेएनयू छात्रसंघ अध्यक्ष आइशी घोष पर एफआईआर, हमलावर ‘संघी गुंडे’ घूम रहे हैं खुलेआम
07 Jan 2020 - Watchdog

‘जब CAA-NRC पर बात करने बीजेपी वाले घर आएं तो जरूर पूछिए ये सवाल’
23 Dec 2019 - Watchdog

भारत के संविधान के साथ अब तब का सबसे बड़ा धोखा है मोदी का नागरिकता कानून
21 Dec 2019 - Watchdog

नागरिकता कानून के खिलाफ देशभर में विरोध प्रदर्शन
19 Dec 2019 - Watchdog

नागरिकता क़ानून के विरोध की आग दिल्ली पहुंची, 3 बसों में लगाई आग
15 Dec 2019 - Watchdog

लोगों से पटी सड़कें ही दे सकती हैं सब कुछ खत्म न होने का भरोसा
14 Dec 2019 - Watchdog

नागरिकता कानून के खिलाफ मार्च कर रहे जामिया के छात्रों पर लाठीचार्ज
13 Dec 2019 - Watchdog

मोदी-शाह ने सावरकर-जिन्ना को जिता दिया गांधी हार गए
12 Dec 2019 - Watchdog

नागरिकता बिल देश के साथ गद्दारी है
12 Dec 2019 - Watchdog

नागरिकता बिल और कश्मीर पर संघी झूठ
11 Dec 2019 - Watchdog

विवादास्पद नागरिकता संशोधन विधेयक लोकसभा में पेश
09 Dec 2019 - Watchdog

जेएनयू छात्रों के मार्च पर फिर बरसीं पुलिस की लाठियां, कई छात्र गंभीर रूप से घायल
09 Dec 2019 - Watchdog

कालापानी को लेकर भारत के नेपाल से बिगड़ते सम्बंध
07 Dec 2019 - Watchdog



सत्ता की बौखलाहट का शिकार हुए पत्रकार शिव प्रसाद सेमवाल?